Home » क्रिकेट » IND v AUS 3rd ODI: It's good for team India that Australian players are struggling with Yuzvendra Chahal & Kuldeep Yadav
 

IND v AUS 3rd ODI: कुलदीप-चहल से ऑस्ट्रेलिया की मुश्किल भारत के लिए अच्छी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 September 2017, 20:22 IST

चाइनामैन बॉलर कुलदीप यादव और यजुवेंद्र चहल की गेंदें मेहमान ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए मुश्किल बन रही हैं. मेहमान खिलाड़ियों की यह मुश्किल टीम इंडिया के लिए अच्छी बात है. यह कहना है टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे का.

रहाणे ने टीम के स्पिन गेंदबाज युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की तरीफ करते हुए कहा कि ऑस्ट्रेलियाई टीम को इन दोनों को खेलने में हो रही परेशानी भारत के लिए अच्छी बात है. पांच वनडे मैचों की सिरीज के शुरुआती दो मैचों में इन दोनों गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को खासा परेशान किया है और यही कारण है कि भारत इस सीरीज में 2-0 की बढ़त ले चुका है.

भारत ने चेन्नई और कोलकाता में खेले गए दो मैचों में ऑस्ट्रेलिया के 19 विकेट गिराए हैं, जिसमें से 10 विकेट इन दोनों ने लिए हैं. कोलकाता में कुलदीप ने हैट्रिक भी ली थी. रविवार को होने वाले तीसरे मैच में भी ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे बड़ी चुनौती इन दोनों से निपटने की होगी.

रहाणे ने शनिवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा, "वह (ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज) इन दोनों को नहीं पकड़ पा रहे हैें, यह हमारे लिए अच्छी बात है. दोनों अच्छी योग्यता वाले गेंदबाज हैं और घरेलू क्रिकेट में दोनों ने अच्छा प्रदर्शन किया है. वनडे में मध्य के ओवरों में विकेट लेना बेहद जरूरी होता है. दोनों ही गेंदबाज बिना समय लिए यही कर रहे हैं. इन दोनों का टीम में होना हमारे लिए अच्छा है."

चौथे मैच में सलामी बल्लेबाज शिखर धवन वापसी पर कर सकते हैं. उनके आने पर रहाणे को टीम से बाहर जाना पड़ सकता है. इस पर रहाणे ने कहा कि वह कोशिश करेंगे और भविष्य को ध्यान में रखते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे.

धवन को टीम में चुना गया था लेकिन उन्होंने बीसीसीआई से कहा था कि वह अपनी पत्नी की तबीयत खराब होने के कारण उनके साथ ही रहना चाहते हैं. ऐसे में बीसीसीआई ने उन्हें टीम से जाने दिया था.

धवन की जगह ही रहाणे को अंतिम एकादश में मौका मिला है. रहाणे ने कहा, "मैं भविष्य के बारे में ज्यादा नहीं सोचता. मुझे जब भी मौका मिलता है मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करता हूं. मेरे लिए यही बात मायने रखती है. मैं वर्तमान में जीने पर विश्वास रखता हूं. हम में से कोई नहीं जानता कि भविष्य में क्या होगा. मेरे लिए सबसे अच्छी चीज यही है कि मैं अपना खेल खेलता रहूं और जब भी मौका मिले अपना सर्वश्रेष्ठ देता रहूं."

उन्होंने कहा, "जब शिखर लौट के आएगा तो हमें नहीं पता कि क्या होगा. लेकिन इस समय मेरे लिए यह जरूरी है कि मैं अपनी टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूं."

बल्लेबाजी में लचीलेपन के बारे में रहाणे ने कहा, "इस टीम के बारे में सबसे अच्छी बात ये है कि इस टीम का हर बल्लेबाज कहीं भी बल्लेबाजी कर सकता है. मैंने भी नंबर तीन, चार और पांच पर बल्लेबाजी की है. यह जरूरी है कि आप परिस्थति को किस तरह से संभालते हो और कुछ थोड़े बहुत बदलाव मानसिकता में भी करने होते हैं."

जब टीम कोलकाता में अभ्यास कर रही थी तब सचिन तेंदुलकर आए थे. रहाणे से जब पूछा गया कि सचिन और उनके बीच में क्या बात हुई, इस पर रहाणे ने कहा, "चार दिन पहले हम नेट पर अभ्यास कर रहे थे. उन्होंने मुझे अपना खेल खेलने को कहा."

रहाणे ने बताया, "उन्होंने मुझसे कहा कि अपनी तैयारी अच्छे से करो और अच्छी मानसिकता रखो. उन्होंने मानसिक तैयारी के बारे में बातें कीं. उनसे बात करके मुझे काफी आत्मविश्वास मिला."

First published: 23 September 2017, 20:22 IST
 
अगली कहानी