Home » क्रिकेट » IND v SL Delhi Test Live: Sri Lanka cricket team loses sportsman spirit by blaming Smog & stopping play
 

सिरीज ही नहीं खेल भावना में भी टीम इंडिया से हार गई श्रीलंका

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 3 December 2017, 16:19 IST

नई दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में रविवार को कुछ ऐसा हुआ जिसकी आजतक किसी ने उम्मीद नहीं की होगी. भारत के खिलाफ खेलने आई श्रीलंका की टीम ने टेस्ट सिरीज के तीसरे मैच के दूसरे दिन खुद को हारता देख, खेल भावना को भुला दिया और वायु प्रदूषण का हवाला देते हुए एक-दो नहीं कई बार मैच खेलने से मना कर दिया. एक ओर तो स्मॉग और वायु प्रदूषण को लेकर भारत की दुनिया भर में किरकिरी हुई, तो दूसरी तरफ श्रीलंका के इस रवैये की भी जमकर आचोलना की गई.

दरअसल, दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में टेस्ट सिरीज का तीसरा और आखिरी मैच खेला जा रहा है. शनिवार को पहले दिन मुरली विजय और कप्तान विराट कोहली दोनों ने 150-150 रनों का स्कोर पार कर टीम इंडिया को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया था. जबकि रविवार को कप्तान विराट कोहली ने अपने करियर का छठा दोहरा शतक जड़कर श्रीलंका के हाथ से मैच छीन लिया था.

टीम इंडिया की पहली पारी में बल्लेबाजी को देखते हुए यह साफ था कि अब इसे जीत से नहीं रोका जा सकता. वहीं, कप्तान विराट कोहली भी 200 रनों के बाद 300 रनों के एक नए रिकॉर्ड की ओर बढ़ रहे थे और टीम का स्कोर बहुत तेजी से बढ़ता जा रहा था. रविवार दोपहर 12 बजे से पहले तक माहौल बिल्कुल सामान्य था और दोनों टीमें आराम से खेल रही थीं.

 

लेकिन दोपहर चाय काल के बाद जब श्रीलंका के खिलाड़ी फील्डिंग करने के लिए मैदान पर उतरे तो कुछ ने अपने चेहरे मास्क से ढक रखे थे. मास्क पहन कर फील्डिंग करने आते खिलाड़ियों को देखकर स्टेडियम में बैठे दर्शकों के अलावा अंपायर, टीम इंडिया के खिलाड़ी और टेलीविजन पर मैच देख रहे दर्शक भी भौचक्के रह गए. वहीं, स्टेडियम में बैठकर कमेंट्री करने वाले आशीष नेहरा, वीरेंद्र सहवाग और वीवीएस लक्ष्मण ने भी इस कदम पर हैरानी जताई.

हालांकि शुरुआत में लगा कि पिछले कुछ वक्त से दिल्ली में फैलते वायु प्रदूषण के असर के चलते श्रीलंका के खिलाड़ियों ने ऐसा किया हो क्योंकि दिसंबर की सर्दी में रविवार दोपहर कुछ हल्की सी धुंध या कोहरा नजर आ रहा था. कहा गया कि श्रीलंका के इन खिलाड़ियों ने सावधानी बरतते हुए ऐसा किया होगा.

लेकिन दोपहर 12:29 बजे श्रीलंका टीम ने पहली बार मैच रोक दिया. श्रीलंका के कप्तान ने फील्ड अंपायरों से बात की और फिर कप्तान कोहली और रविचंद्रन अश्विन भी इस चर्चा में शामिल हो गए. फील्ड अंपायरों ने श्रीलंका के खिलाड़ी वायु प्रदूषण से खराब हुए मौसम का हवाला देकर मैच रुकवाने के लिए कहने लगे. इधर कोहली ने भी उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला.

 

इसके बाद फील्ड अंपायरों ने  मैच रेफरी डेविन बून और थर्ड अंपायर अनिल चौधरी सेे संपर्क किया. कुछ देर बाद थर्ड अंपायरों ने डॉक्टरों से बातचीत की. बताया जा रहा है उस दौरान फिरोजशाह कोटला के आसपास हवा की गुणवत्ता बेहद खराब या चिंताजनक नहीं थी और पीएम 2.5 का स्तर 150-200 के बीच था. डॉक्टरों ने कई बातों पर गौर करने के बाद मौसम को खेल के लिहाज से सही बताते हुए इसे जारी रखने को कहा और थर्ड अंपायर ने मैच को चलता रहने को हरी झंडी दे दी.

इस दौरान 16 मिनट 30 सेकेंड तक खेल प्रभावित रहा. कप्तान विराट कोहली इस दौरान काफी गुस्से में नजर आए और उन्होंने अपना बल्ला भी फेंक दिया था. मैच रुकने से पहले कोहली 230 रनों के आगे खेल रहे थे. इसके बीच में ही कोहली ने खुद को कूल करने के लिए क्रीज के बगल में ही अपना हेलमेट उतारा और वहीं लेट भी गए.

हालांकि थर्ड अंपायर की हरी झंडी मिलने के बाद 12:45 बजे खेल शुरू हुआ और इस दौरान खराब हुए मूड के चलते 12.49 बजे आर अश्विन अपना विकेट गंवा बैठे. इसके बाद विराट कोहली का मूड खराब रहा और वो 12:53 से लेकर 1:05 मिनट तक गुस्से में इधर-उधर शॉट मारते दिखे और इसी क्रम में 1:06 बजे अपना विकेट दे बैठे.

 

श्रीलंका की प्लानिंग और रणनीति यहीं खत्म नहीं हुई और उन्होंने फिर से 1:14 बजे दोबारा खेल रोक दिया. वायु प्रदूषण और खराब तबीयत का हवाला देते हुए श्रीलंका टीम ने खेल न खेलने की बात कही. इसके बाद 1:16 बजे टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री मैदान पर पहुंचे और फील्ड अंपायरों ने श्रीलंका के इस रवैये की शिकायत की.

इसके बाद श्रीलंका टीम का एक गेंदबाज खराब तबीयत का हवाला देकर बिना पूरा ओवर किए ही मैदान से बाहर चला गया. फिर कुछ देर बाद एक और खिलाड़ी मैदान से बाहर चला गया और श्रीलंका टीम के पास मैदान में केवल 10 खिलाड़ी ही बचे. श्रीलंका यहीं पर नहीं सुधरी और फील्ड अंपायरों-थर्ड अंपायर के कहने के बावजूद न खेलने के लिए कहती रही.

इस दौरान ड्रेसिंग रूम में बैठी टीम इंडिया इस नाटकीय घटनाक्रम को देखकर खुश हों या परेशान के बीच ही जूझती दिखी. लेकिन कप्तान विराट कोहली इतनी देर तक चुप कैसे बैठ सकते थे. श्रीलंका के रवैये से नाराज कोहली ने आखिरकार 1:27 बजे ड्रेसिंग रूम से क्रीज पर मौजूद दोनों बल्लेबाजों को ईशारा किया कि पारी डिक्लेयर कर दी गई है, आप वापस आ जाओ और अब श्रीलंका के केवल दो बल्लेबाज मैदान पर बैटिंग करें और हम गेंदबाजी करेंगे. देखते है कि वायु प्रदूषण हमें कैसे परेशान करता है.

 

टीम डिक्लेयर करने के दौरान कोहली काफी गुस्से में नजर आ रहे थे. उनका चेहरा साफ बता रहा था कि वो श्रीलंका टीम से कहना चाह रहे हैं कि तुम्हारी टीम के सारे खिलाड़ी मैदान पर खड़े होकर वायु प्रदूषण से परेशान हो रहे हैं, तो अब परेशान मत हो और वापस जाकर ड्रेसिंग रूम में आराम करो और अपनी सेहत पर ध्यान दो. पूरी टीम इंडिया मैदान पर खड़ी रहेगी और तुम दो खिलाड़ियों को केवल बल्लेबाजी करने के लिए क्रीज पर भेज दो.

हालांकि श्रीलंका टीम के इस रवैये ने उनका काफी मजाक भी उड़वाया और सोशल मीडिया पर लोगों ने श्रीलंका के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली. मैदान पर सिरीज को हारता देख श्रीलंका टीम द्वारा किया गया यह हाई वोल्टेज ड्रामा वाकई खेल भावना के खिलाफ है.

ऐसे वक्त में जब अपने घरेलू मैदान पर टीम इंडिया से बुरी तरह सिरीज हारने वाली श्रीलंका टीम अब भारत में आकर सिरीज हार रही है, वायु प्रदूषण का बहाना लेकर खेल रोककर वो क्या दिखाने की कोशिश कर रही है? श्रीलंका टीम को इस बचकानी हरकत से बचना चाहिए था. भले ही टीम खेल हार रही हो, लेकिन खेल भावना कहती है कि खेल को खेल की तरह खेलना चाहिए और जीत हो या हार इसे स्वीकारना चाहिए.

 

श्रीलंका टीम के इस कदम के बाद ट्विटर-फेसबुक पर न केवल दिग्गज क्रिकेट खिलाड़ियों, अन्य खिलाड़ियों, कमेंट्रेटर्स, नेता, पूर्व खिलाड़ियों, नेताओं-अभिनेताओं ने भी इस पर नाराजगी जताते हुए इसे गलत कदम बताया.

हालांकि एक बात यहां जरूर ध्यान देने वाली है कि जिस क्रिकेट को दुनिया भर में इतना ज्यादा देखा जाता है, रविवार को दिल्ली में हुए इस मामले ने समूचे विश्व का ध्यान इस ओर खींचा है. ऐसे में भारत सरकार, दिल्ली सरकार, पर्यावरण एजेंसियों, न्यायालय और नागरिकों सभी को एकजुट होकर इस वायु प्रदूषण के जंजाल से देश को मुक्त कराने पर ध्यान देना चाहिए.

First published: 3 December 2017, 16:19 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

अगली कहानी