Home » क्रिकेट » India v SL Nagpur Test Live: Cheteshwar Pujara revealed it was not a easy wicket to bat while team India scores 4 centuries
 

नागपुर टेस्टः सैकड़ा ठोकने के बाद बोला कि बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं था विकेट

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 November 2017, 20:00 IST

एक ऐसा मैदान जहां टीम इंडिया के चार खिलाड़ियों ने सैकड़ा ठोक दिया हो, उसके बाद भी शतक मारने वाला एक खिलाड़ी बोलता है कि यह ऐसी पिच नहीं थी जो बल्लेबाजों के लिए आसान हो, सुनकर आपको कैसा लगेगा. भले आपको कैसा भी लगे लेकिन नागपुर के स्टेडियम में श्रीलंका के खिलाफ शतक लगाने वाले टीम इंडिया के यह बल्लेबाज कहते हैं कि यहां रन बनाना आसान नहीं था.

दरअसल, टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर बल्लेबाज चेेतेश्वर पुजारा का मानना है कि नागपुर स्थित विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम का विकेट बल्लेबाजों के लिए मुफीद नहीं था. पुजारा का यह कहना तब है जब टीम इंडिया के चार बल्लेबाजों ने इस पर सैकड़ा ठोका है और इनमें से एक ने दोहरा शतक.

श्रीलंका के खिलाफ खेली जा रही टेस्ट सिरीज में टीम इंडिया ने दूसरे मैच की पहली पारी में श्रीलंका के 205 रन के जवाब में 6 विकेट के नुकसान पर 610 रन बनाकर टीम डिक्लेयर कर दी. श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था और शुक्रवार को पहले दिन के मैच में सभी विकेट खोकर 205 रन बनाए थे.

 

 

हालांकि, 29 वर्षीय टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा जिन्होंने अपने टेस्ट करियर का 14वां शतक ठोका है, कहते हैं बल्लेबाजों के लिए यह विकेट आसान नहीं था. पुजारा ने सेकेंड विकेट के लिए मुरली विजय के साथ 205 रनों की साझेदारी की थी और विजय के आउट होने के बाद तीसरे विकेट के लिए विराट कोहली के साथ 183 रनों की साझेदारी.

इसके बाद 362 गेंदों पर 143 रन बनाने के बाद पुजारा आउट हो गए थे. नागपुर में पुजारा ने मीडिया को बताया, "इस विकेट पर रन बनाना मुश्किल था क्योंकि यह धीमा था. यहां पर बाउंड्री लगाना आसान नहीं था और इसलिए हम स्ट्राइक रोटेट करते रहे और हमें मौके मिले. पूरी तरह से यह एक मुश्किल पिच थी, जहां हो सकता है आप आउट न हों लेकिन रन बनाना भी उतना ही मुश्किल था."

पुजारा ने बताया कि उनकी बेहतर फिटनेस ने उनके अच्छे प्रदर्शन में मदद की. वो कहते हैं, "पिछले डेढ़-दो सालों में मैं अपनी फिटनेस पर कड़ी मेहनत कर रहा था और किस्मत के चलते कोई चोट भी नहीं लगी. मैं पूरी तरह फिट हूं और यही कारण है कि मैं तेजी से एक और दो रन चुराने में सक्षम था. बल्लेबाजी में मैंने कोई बड़ा बदलाव नहीं किया लेकिन मेरी फिटनेस काफी अच्छी हुई है. अगर आप पांच दिन तक मैदान पर बने रहना चाहते हैं तो आपको बहुत स्टैमिना (ताकत) की जरूरत होती है, और आपकी फिटनेस सबसे अच्छी होनी चाहिए."

गौरतलब है कि कोलकाता के इडेन गार्डेंस में हुआ श्रीलंका और टीम इंडिया का पहला मुकाबला बेनतीजा रहा. बारिश ने इस मैच को बाधित किया था. अब तीन मैचों की इस सिरीज में टीम इंडिया और श्रीलंका 0-0 से बराबरी पर हैं. हालांकि दूसरे मैच में टीम इंडिया ने तीसरे दिन 405 रनों की बढ़त लेकर श्रीलंका को बैकफुट पर भेज दिया है. अब पूरा दारोमदार गेंदबाजों के ऊपर है, कि वो श्रीलंका को इस स्कोर तक पहुंचने से पहले ही ऑल आउट कर दें.

हालांकि, 29 वर्षीय टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा जिन्होंने अपने टेस्ट करियर का 14वां शतक ठोका है, कहते हैं बल्लेबाजों के लिए यह विकेट आसान नहीं था. पुजारा ने सेकेंड विकेट के लिए मुरली विजय के साथ 205 रनों की साझेदारी की थी और विजय के आउट होने के बाद तीसरे विकेट के लिए विराट कोहली के साथ 183 रनों की साझेदारी.

इसके बाद 362 गेंदों पर 143 रन बनाने के बाद पुजारा आउट हो गए थे. नागपुर में पुजारा ने मीडिया को बताया, "इस विकेट पर रन बनाना मुश्किल था क्योंकि यह धीमा था. यहां पर बाउंड्री लगाना आसान नहीं था और इसलिए हम स्ट्राइक रोटेट करते रहे और हमें मौके मिले. पूरी तरह से यह एक मुश्किल पिच थी, जहां हो सकता है आप आउट न हों लेकिन रन बनाना भी उतना ही मुश्किल था."

पुजारा ने बताया कि उनकी बेहतर फिटनेस ने उनके अच्छे प्रदर्शन में मदद की. वो कहते हैं, "पिछले डेढ़-दो सालों में मैं अपनी फिटनेस पर कड़ी मेहनत कर रहा था और किस्मत के चलते कोई चोट भी नहीं लगी. मैं पूरी तरह फिट हूं और यही कारण है कि मैं तेजी से एक और दो रन चुराने में सक्षम था. बल्लेबाजी में मैंने कोई बड़ा बदलाव नहीं किया लेकिन मेरी फिटनेस काफी अच्छी हुई है. अगर आप पांच दिन तक मैदान पर बने रहना चाहते हैं तो आपको बहुत स्टैमिना (ताकत) की जरूरत होती है, और आपकी फिटनेस सबसे अच्छी होनी चाहिए."

गौरतलब है कि कोलकाता के इडेन गार्डेंस में हुआ श्रीलंका और टीम इंडिया का पहला मुकाबला बेनतीजा रहा. बारिश ने इस मैच को बाधित किया था. अब तीन मैचों की इस सिरीज में टीम इंडिया और श्रीलंका 0-0 से बराबरी पर हैं. हालांकि दूसरे मैच में टीम इंडिया ने तीसरे दिन 405 रनों की बढ़त लेकर श्रीलंका को बैकफुट पर भेज दिया है. अब पूरा दारोमदार गेंदबाजों के ऊपर है, कि वो श्रीलंका को इस स्कोर तक पहुंचने से पहले ही ऑल आउट कर दें.

First published: 26 November 2017, 20:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी