Home » क्रिकेट » India vs Australia 4th ODI, Bangalore: virat kohli may be change the last eleven to give opportunity to new player.
 

धोनी का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए कोहली चौथे वनडे में लेंगे ये बड़ा रिस्क!

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 28 September 2017, 10:40 IST

आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली जा रही पांच वनडे मैचों की सिरीज के चौथे मैच में गुरुवार को भारत अजेय बढ़त को बरकरार रखने के इरादे से उतरेगा. गुरुवार को बेंगलुरु के एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में दोनों टीमें आमने-सामने होंगी.

विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया लगातार नौ वनडे मैच जीत चुकी है. गुरुवार को खेले जाने वाले मैच में विराट कोहली का इरादा धोनी के रिकॉर्ड को तोड़ने का होगा. दरअसल महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में फरवरी 2008 से लेकर जनवरी 2009 तक टीम इंडिया में नौ वनडे मैचों में जीत का रिकॉर्ड बनाया था.

हालांकि टीम इंडिया सिरीज़ अपने नाम कर चुकी है पर बड़ा सवाल ये है कि क्या कोहली गुरुवार को खेले जाने वाले वनडे में उन खिलाड़ियों को मौका देंगे जो अब तक नहीं खेल पाए हैं. ऐसा करने पर कोहली के नए रिकॉर्ड बनाने की संभावना पर संकट आ सकता है. 

इस सिरीज में भारतीय टीम की तरफ से मैच में बेंच पर बैठे खिलाड़ियों को मौका नहीं मिला है. गुरुवार को खेले जाने वाले मैच में टीम इंडिया के पास इन्हें आजमाने का मौका है. एेसे में मोहम्मद शमी, उमेश यादव और अक्षर पटेल को आखिरी एकादश में जगह मिल सकती है. इनके अलावा केएल राहुल को मौका मिल सकता है.

अब तक इस सिरीज में अभी तक टीम इंडिया के सारे खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया है. हार्दिक पांड्या ने अभी तक इस सिरीज़ में दो बार फिफ्टी मारी है और बॉलिंग से भी ऑस्ट्रेलिया को परेशान किया है. पिछले मैच में धोनी की जगह उन्हें प्रमोट कर चौथे नंबर पर भेजा गया था. पांड्या ने चौथे नंबर पर खेलते हुए  78 रन की शानदार पारी खेली थी.

अपनी इस पारी में उन्होंने चार छक्के भी लगाए. इस सिरीज में हार्दिक पांड्या को उनके शानदार प्रदर्शन के कारण दूसरी बार मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला था. उनके अलावा रोहित शर्मा और अंजिक्य रहाणे ने भी पिछले मैच में फिफ्टी मारी थी.

इस सीरीज में भारत की गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया है. तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार ने टीम को शुरुआती सफलताओं दिलाने के साथ ही आखिरी ओवरों में भी कसी गेंदबाजी की है. दूसरी तरफ स्पिनर युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने इनका शानदार साथ दिया है. कुलदीप यादव ने कोलकाता में भारत की तरफ से हैट्रिक ली थी. इसी के साथ वो वनडे में हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय  स्पिनर बन गए है.

भारत की नजर 2019 के आगामी वर्ल्ड कप पर है. वो इसकी तैयारियों के लिए सभी खिलाड़ियों को मौका देना चाहेगी ताकि वो बेस्ट खिलाड़ियों के साथ वर्ल्ड कप में उतरे. गौरतलब है कि रविंद्र जडे़जा और आर अश्विन जैसे स्पिनरों को भी टीम इंडिया में खेलेने का मौका नहीं मिल पा रहा है.

First published: 28 September 2017, 10:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी