Home » क्रिकेट » India vs England: Kuldeep and Chahal ready to play Test Cricket place of Ashwin-Jadeja
 

अश्विन-जडेजा के लिए मुसीबत बने चहल-कुलदीप, खत्म हो सकता है करियर

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 July 2018, 10:18 IST

इंग्लैड दौरे पर भारतीय क्रिकेट टीम ने धूम मचाया हुआ है. खेल के दोनों छोटे फॉर्मेट टी-ट्वेंटी और वनडे में भारतीय खिलाड़ियों इंग्लैंड के होश उड़ा रखे हैं. टीम की इस सफलता में दो खिलाड़ियों का बड़ा योगदान है. ये दो खिलाड़ी हैं भारत की तेजी से उभरती यजुवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की स्पिन जोड़ी.

इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज में और उसके बाद पहले वनडे मैच में चहल और कुलदीप यादव के परफॉर्मेंस ने चयनकर्ताओं को सोचने पर विवश कर दिया है कि टेस्ट सिरीज में पुरानी जोड़ी के साथ उतरा जाए या इसकी जगह उस जोड़ी को भेजा जाए जिसने छोटे फॉर्मेट में इंग्लिश बल्लेबाजों के होश उड़ा रखे हैं.

पहले वनडे में चाइनमैन कुलदीप यादव की गेंदबाजी देखने के बाद कप्तान कोहली भी हैरान रह गए थे. इस मैच में कुलदीप ने ऐसा कहर ढाया कि एक, दो नहीं पूरे छह इंंग्लिश बल्लेबाज उनका शिकार बन गए. इससे पहले टी 20 मुकाबले में कुलदीप ने पांच शिकार किए थे.

दोनों फॉर्मेट में कुलदीप का परफॉर्मेंस देखने के बाद कहा जा सकता है कि वह इस वक्त टीम इंडिया के ट्रंप कार्ड हैं. वहीं लेग स्पिनर युजवेन्द्र चहल ने भी पिछले कुछ वक्त में टीम के लिए शानदार प्रदर्शन किया है. अपनी तेज लेग स्पिन के साथ गुगली से उन्होंने बल्लेबाजों को खासा परेशान किया है.

पहला वनडे जीतने के बाद कप्तान कोहली ने कहा था, "टेस्ट टीम के चयन में कुछ भी संभव है और कुछ सरप्राइज भी हो सकते हैं. कुलदीप का दावा पुख्ता है और चहल का भी. जिस तरह से इंग्लैंड के बल्लेबाजों को उन्हें खेलने में परेशानी हो रही है, हम उन्हें उतार भी सकते हैं."

पढ़ें- पिछली 7 वनडे सिरीज से 'सुपरहिट' हैं रोहित, कोहली के इस रिकॉर्ड को किया ध्वस्त

इसके अलावा अश्विन और जडेजा की जोड़ी के साथ नकारात्मक बात यह है कि उनका विदेश में परफॉर्मेंस उतना अच्छा नहीं रहा है जितना अपने देश में रहा है. आर अश्विन के विदेशी दौरों की बात करें तो ये उनके लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं है. अश्विन ने भारत के लिए 58 टेस्ट में 316 विकेट लिए हैं लेकिन इनमें 36 मैच में 225 विकेट सिर्फ भारत में झटके हैं. बाहर निकलते ही अश्विन विकेट के लिए तरसने लगते हैं.

भारत से बाहर उन्होंने 22 मैच में 91 विकेट झटके हैं जिसमें 38 विकेट श्रीलंका में और 17 विकेट वेस्टइंडीज में लिए हैं. ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने सिर्फ 6 मैच खेले हैं और 21 विकेट झटके हैं. साउथ अफ्रीका में उन्होंने सिर्फ सात विकेट लिए हैं तो इंग्लैंड में उनके खाते में सिर्फ 3 विकेट हैं. 2014 में इंग्लैंड के अपने पहले दौरे में अश्विन सिर्फ दो मैच ही खेल पाए जहां पहले मैच में उन्हें कोई विकेट नहीं मिला वहीं दूसरे मैच में तीन विकेट झटक पाए.

वहीं रविन्द्र जडेजा का हाल भी अश्विन की ही तरह है. विदेशी जमीन पर उन्हें भी विकेट के लिए तरसते देखा गया है. भारत के पिछले इंग्लैंड दौरे में जडेजा चार मैच में टीम के हिस्सा थे लेकिन सिर्फ 9 विकेट ही निकाल सके. भारत में उन्होंने 26 मैच में 137 विकेट झटके हैं वहीं घर से बाहर उनके खाते में सिर्फ 34 विकेट हैं.

पढ़ें- कैफ की इस पारी ने तोड़ा था अंग्रेजों का गुरूर, 'दादा' ने टी-शर्ट लहराकर मनाया था जश्न

अश्विन और कोहली के आंकड़ों से ये तो साफ पता चलता है कि विदेशी जमीन पर उन्हें विकेट निकालने के लिए तरसना पड़ता है. वहीं इस टूर में अभी तक के मैच को देखें तो कुलदीप-चहल की जोड़ी ने धमाल मचा रखा है. कुलदीप और चहल एक लेग स्पिनर हैं जो कलाई के सहारे किसी भी मैदान पर गेंद को घुमा सकते हैं. पिछले कुछ समय से जिस तरह का प्रदर्शन इन दोनों का रहा है ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि इनको इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट टीम में मौका मिल जाए.

First published: 14 July 2018, 10:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी