Home » क्रिकेट » indian captain Virat Kohli calls for relocation of Jaipur elephant
 

एक हाथी की मदद के लिए विराट कोहली ने किया कुछ ऐसा जीता 125 करोड़ भारतीयों का दिल

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 November 2018, 13:02 IST

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली हमेशा से ही पर्यावरण के लिए कुछ न कुछ करते रहते है. इसी कड़ी में अब एक बार फिर से विराट कोहली आगे आए है. इस बार विराट कोहली ने  पीपल फोर द एथिकल ट्रीटमेंट आफ एनिमल्स (पेटा) की ओर से राजस्थान के वन एवं पर्यावरण मंत्री को लेटर लिखा है. इस लेटर में कोहली ने ‘नंबर 44’ से पहचाने जाने वाले हाथी को पुनर्वास केंद्र में भेजने की मांग की है.

आप को बता दें कि अमेरिकी पर्यटकों के एक समूह ने पिछले साल जून में आमेर किले में आठ लोगों को बेहद हिंसक तरीके से हाथी को पीटते हुए देखा था और इस हाथी को इस्तेमाल अब भी सवारी ढोने के लिए किया जा रहा है.

कोहली ने अपने लेटर में लिखा है कि एक  पेशेवर खिलाड़ी के रूप में मुझे देश के लिए खेलने पर गर्व है. लेकिन जब से मुझे नंबर 44 की कहानी के बारे में पता चला है , मुझे शर्म महसूस हो रही है. जानवरों के प्रति इस तरह का रवैया पूरी तरह से अस्वीकार्य है. ऐसे में काम के लिए सिर्फ गैरक़ानूनी शब्द का इस्तेमाल करना ही सही नहीं है. मुझे नहीं लगता है कि इस तरह से हमारे देश में हाथियों के साथ बर्ताव किया जाएगा.मैं आप से आग्रह करता हूँ कि आप नंबर 44 को प्रतिष्ठित पुनर्वास केंद्र में भेजने में मदद करें जिससे कि उसे वह देखरेख मिल सके जिसकी उसे जरूरत है, वह अपने जैसे दूसरों से घुल मिल सके और चेन, उत्पीड़न और डर के बिना जी सके.’

कोहली की इस शिकायत के बाद पेटा इंडिया ने राजस्थान वन विभाग के मुख्य वनजीव वार्डन को शिकायत दी जिसके बाद ‘नंबर 44’ के संरक्षक वसीद खान को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया है.उसे इस उत्पीड़न के लिए दोषी ठहराया दिया गया है. इस नोटिस में कहा गया है कि जयपुर चिड़ियाघर के क्षेत्रीय वन अधिकारी की जांच और अमेरिकी चश्मदीदों द्वारा मुहैया कराई गई तस्वीरों से संकेत मिलते हैं कि हाथी के साथ क्रूर बर्ताव किया गया जो कई वन्य जीव संरक्षण कानूनों का उल्लंघन है.

First published: 30 November 2018, 13:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी