Home » क्रिकेट » Indian Spinner Harbhajan singh ensures medical help to save ex cricketer harman's harry life
 

हरभजन ने कायम की दोस्ती की मिसाल, दोस्त को दी नई जिंदगी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2018, 10:52 IST

दिग्गज भारतीय क्रिकेटर और टर्बनेटर के नाम से फेमस हरभजन सिंह ने दोस्ती की एक अनोखी मिसाल पेश की है. दरअसल, भज्जी ने जिन्दगी और मौत से जूझ रहे अपने दोस्त हरमन हैरी की उस वक्त मदद की जब उनकी सारी उम्मीदें टूट चुकी थीं.

कब की है दोस्ती

हरमन हैरी और भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह की दोस्ती उस वक्त की है, जब वे 1990 के दशक में पंजाब के लिए अंडर-16 क्रिकेट खेलते थे. 1998 में हरभजन को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पदार्पण करने का मौका मिल गया लेकिन हैरी 'ऐज' क्रिकेट से कभी आगे नहीं बढ़ सके.

ये भी पढ़ें-हरभजन ने किया खुलासा, आखिर क्यों होती है युवराज के घर की बिजली गुल

हरमन की हालत में हो रहा सुधार 

इलाज के बाद हरमन ने कहा कि " मैं जिंदगी भर उनका शुक्रगुजार रहूंगा. उन्होंने यह साबित किया है कि सच्ची दोस्ती क्या होती है. मेरे पास इस वक्त बिलकुल भी पैसे नहीं हैं. मैंने अपने सारे पैसे पिछले एक साल में इलाज में लगा दिए हैं. हरभजन फरिश्ते की तरह आए और मेरी जान बचाई."

वहीं अब हरमन की हालत मेंं सुधार हो रहा है. वो पहले से बेहतर हैं.  अब उन्होंने अस्पताल के बगल में ही कमरा ले लिया है जिस कारण उनको अस्पताल आने-जाने में कोई भी तकलीफ नहीं हो. बता दें कि हरभजन  इस समय जालंधर में अपने पिता सरदार सरदेव सिंह की याद में क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन करवा रहे हैं.

टर्बनेटर ने दिखाई दरियादिली

दरअसल हैरी की आंतों में फीटसूला नाम का इन्फेक्शन हो गया था. हरभजन को हैरी का एक दिन फोन आया और उनको मालूम चला कि उनके पुराने साथी को अपनी जिन्दगी बचाने के लिए पैसों की सहायता की जरुरत है. जिसके बाद हरभजन ने बिना कुछ सोचे इलाज करवाने को कहा साथ हीं यह भी कहा कि वो पैसों की चिंता न करें. 

हरभजन ने बताया " हरमन ने किसी तरह मुझसे संपर्क किया और बताया की किस तकलीफ से वह गुजर रहा है." ऑफ स्पिनर ने आगे बताया कि "उसको पैसे की सख्त जरुरत थी, मैंने उससे कहा कि वो सर्जरी करवाए और उससे वादा किया कि मैं सारे मेडिकल खर्चों को देख लूंगा. कोई भी चीज जिन्दगी से ऊपर नहीं है. " हरभजन ने यहां तक कहा कि हैरी अच्छे अस्पताल में इलाज करवायें.

ये भी पढ़ें-ऐसे ही साथ मिला तो मैदान पर अपनी जान भी दे देंगे: सुनील छेत्री

हर जगह से परेशान हरमन का आखिरकार इलाज नांगलोई के राठी हॉस्पिटल में हुआ. वहीं इस दौरान हरभजन आईपीएल में व्यस्त होने के बावजूद अस्पताल के मालिक से बात की और बताया कि वह इलाज का सारा खर्चा उठा रहे हैं. 

हरभजन ने बताया " हरमन ने किसी तरह मुझसे संपर्क किया और बताया की किस तकलीफ से वह गुजर रहा है." ऑफ स्पिनर ने आगे बताया कि "उसको पैसे की सख्त जरुरत थी, मैंने उससे कहा कि वो सर्जरी करवाए और उससे वादा किया कि मैं सारे मेडिकल खर्चों को देख लूंगा. कोई भी चीज जिन्दगी से ऊपर नहीं है. " हरभजन ने यहां तक कहा कि हैरी अच्छे अस्पताल में इलाज करवायें.

ये भी पढ़ें-ऐसे ही साथ मिला तो मैदान पर अपनी जान भी दे देंगे: सुनील छेत्री

हर जगह से परेशान हरमन का आखिरकार इलाज नांगलोई के राठी हॉस्पिटल में हुआ. वहीं इस दौरान हरभजन आईपीएल में व्यस्त होने के बावजूद अस्पताल के मालिक से बात की और बताया कि वह इलाज का सारा खर्चा उठा रहे हैं. 

First published: 6 June 2018, 10:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी