Home » क्रिकेट » KL Rahul as Wicket Keeper and Number Five Batsman is a fair Idea?
 

केएल राहुल के करियर के साथ खिलवाड़ कर रहें हैं विराट कोहली?

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2020, 17:57 IST

विश्व कप के 12वें संस्करण (World Cup 2019) के बाद से ही टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कप्तान एम एस धोनी (MS Dhoni) टीम इंडिया से बाहर है. उनकी जगह टीम में ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को मौका दिया गया. ऋषभ पंत नंबर चार और पांच पर बल्लेबाजी करने आते रहे लेकिन वो अपने बल्ले और विकेट के पीछे अपने दस्तानों से टीम मैनेजमेंट का भरोसा जीतने में सफल नहीं हो पाए.

वहीं जनवरी महीने में जब टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरिज़ (India vs Australia ODI Series) खेली उसके पहले मुकाबले में बल्लेबाजी करने के दौरान पंत चोटिल हो गए जिसके बाद केएल राहुल को विकेटकीपर का काम सौंपा गया. इतना ही नहीं विराट कोहली (Virat Kohli) ने केएल राहुल की बल्लेबाजी क्रम में भी बदलाव किया और उन्हें नंबर पांच पर बल्लेबाजी के लिए भेजा. केएल राहुल इस दौरान सफल हुए लेकिन टीम इंडिया के कई पूर्व खिलाड़ियों ने टीम मैनेजमेंट के इस फैसला का विरोध किया है और साथ ही कहा है कि केएल राहुल का करियर इससे खत्म भी हो सकता है

कहां से खड़ी हुई समस्या

केएल राहुल एक सलामी बल्लेबाज है. शिखर धवन के चोटिल होने के कारण राहुल को वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरिज़ (India vs West Indies ODI Series) में जगह मिली. वहीं साल के शुरूआत में टीम इंडिया ने श्रीलंका के खिलाफ तीन टी20 मैचों की सीरिज़ (India vs Sri Lanka T20 Series) खेली थी जिसमें रोहित शर्मा को आराम दिया गया था. ऐसे में एक बार फिर केएल को टीम में जगह मिली. हालांकि समस्या ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुई तीन वनडे मैचों की सीरीज से शुरू हुई. केएल राहुल जो बतौैर बैकअप सलामी बल्लेबाज के तौर पर टीम इंडिया में थे वो धमाकेदार प्रदर्शन कर रहे थे और विराट कोहली ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखाने की जगह उन्हें भी प्लेइंग इलेवन में जगह दी.

हालांकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे मुकाबले में ऋषभ पंत चोटिल हुए तो उनकी जगह केएल राहुल एक बार फिर टीम इंडिया के लिए संकटमोचक बनके सामने आए. लेकिन इसी सीरिज़ के तीसरे वनडे मुकाबले में पंत सही हो गए थे लेकिन फिर भी राहुल को टीम में जगह मिली, जिसके बाद यह विवाद खड़ा हुआ.

 

क्यों हो रहा विरोध

दरअसल, केएल राहुल सलामी बल्लेबाज हैं, ऐसे में उन्हें नंबर पांच पर बल्लेबाजी के लिए भेजना उनके करियर के साथ खिलवाड़ करने जैसा है. क्योंकि इससे पहले टीम इंडिया ने अंजिक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) के साथ यह प्रयोग किया था जिसके कारण वो आज तक वनडे टीम में अपनी वापसी को लेकर संघर्ष कर रहे है. दिग्गजों को इस बात का डर है कि अगर केएल राहुल का एक बार बल्ला खामोश हुआ तो वो वापसी करने में सफल नहीं हो पाएंगे क्योंकि वो अपना नेचुरूल गेम खो चुके होंगे.

जब आप सलामी बल्लेबाज और नंबर पांच के बल्लेबाज के खेल को देखें तो आपको साफ तौर पर दोनों बल्लेबाजों के खेल में अंतर मालूम पड़ेगा. ओपनिंग करते समय आपकी तकनीक दूसरी होती है जबकि नंबर पांच पर आपको स्थिति के अनुसार बल्लेबाजी करनी होती है. बात अगर दूसरी टीमों की करें तो वनडे क्रिकेट में मौजूद समय में नंबर पांच पर लंबे लंबे हिट लगाने वाले बल्लेबाज खेलते हैं. केएल राहुल तकनीक के साथ खेलते हैं ऐसे में उनके खेल पर इसका असर पड़ना लाज़मी है.

 

टीम इंडिया को चाहिए होगा विकेटकीपर

इतना ही नहीं अगर केएल राहुल को बतौर विकेटकीपर टीम में शामिल किया जाए तो भी यह एक समस्या ही होगी. टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज आकाश चोपड़ा ने बीते दिनों ही कहा था कि केएल राहुल 50 ओवर गेम में विकेटकीपिंग करने के बाद बल्लेबाजी के लिए आए, यह सही नहीं होगा क्योंकि वो यह एक्स्ट्रा वर्क लोड नहीं ले पाएंगे. हालांकि आकाश चोपड़ा सलामी बल्लेबाज के लिए ऐसा कह रहें है लेकिन अगर राहुल नंबर पांच पर बल्लेबाजी के लिए आए तो उन्हें थोड़ा वक्त जरूर मिल जाएगा.

भले ही टीम इंडिया केएल राहुल को सभी समस्याओं का हल के तौर पर देख रही हो लेकिन टीम मैनेजमेंट का यह फैसला फौरी तौर पर तो राहत देने वाला कहा जा सकता है. विराट कोहली ने जब केएल राहुल को बतौर विकेटकीपर शामिल किया था तब उन्होंने राहुल द्रविड़ का उदाहरण दिया था. लेकिन राहुल द्रविड़ ने भी 73 वनडे मुक़ाबलों में ही विकेटकीपिंग की थी. यानि कहा जाए की जब तक राहुल विकेटकीपिंग की ज़िम्मेदारी संभाल रहें है तब तक टीम इंडिया को एक विकेटकीपर तलाशना होगा या फिर बनाना होगा तो यह गलत नहीं होगा.

U19 WC : पहली बार फाइनल में पहुंची बांग्लादेशी टीम, भारत से होगा ख़िताबी मुकाबला

First published: 7 February 2020, 13:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी