Home » क्रिकेट » know about the yo yo test which is the reason for yuvraj singh and suresh raina ouster from team india against srilanka
 

जानिए क्या है युवराज-रैना को बाहर करने वाला 'Yo-Yo' टेस्ट

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 18 August 2017, 16:31 IST

श्रीलंका के खिलाफ रविवार से होने वाली वनडे सीरीज़ के लिए युवराज सिंह और सुरेश रैना को टीम इंडिया से बाहर किया गया है. पहले लोगों को लगा कि वनडे के इन दोनों खिलाड़ियों को विश्व कप 2019 की तैयारियों के लिए आराम दिया गया है. 

टीम की घोषणा के बाद कई जानकारों का मानना था कि युवा खिलाड़ियों को मौका देने के लिए चयनकर्ताओं ने रणनीति के तहत इन्हें टीम में शामिल नहीं किया है. इन कयासों के बीच दो दिन बाद मीडिया में ये ख़बर आई कि ये दोनों खिलाड़ी फिटनेस टेस्ट को पास करने में नाकाम रहे और यही इनके बाहर होने की वजह है.

मीडिया रिपोर्ट्स में ये खुलासा भी हुआ कि ये दोनों यो-यो टेस्ट में फेल रहे. यो-यो टेस्ट का नाम सुनते ही बहुत लोगों को समझ में नहीं आया कि ये टेस्ट क्या है. 

वहीं भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा जो ख़ुद दिल्ली रणजी ट्रॉफी खिलाड़ी रह चुके हैं, वह यो-यो की अहमियत से इनकार नहीं करते. इस पर बीबीसी से बातचीत में विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा ने बताया, "जितने भी खिलाड़ी अंडर-19, रणजी ट्रॉफी और यहां तक कि अंडर-17 भी क्रिकेट खेल रहे हैं, वह भली भांति यो-यो को जानते हैं."

youtube

क्या है यो-यो टेस्ट?

भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए ये टेस्ट अनिवार्य है, जिसे नेशनल क्रिकेट अकादमी में कराया जाता है. इस टेस्ट के लिए कई एंगल की मदद से 20 मीटर की दूरी पर दो पंक्तियां बनाई जाती हैं. 

इस टेस्ट के लिए एक खिलाड़ी रेखा के पीछे से शुरुआत करता है और निर्देश मिलते ही दो लाइनों के बीच दौड़ता है. इसी बीच म्यूज़िक भी बजता रहता है. म्यूज़िक की आवाज़ पर ही खिलाड़ी को मुड़ना होता है. 

हर मिनट के बाद खिलाड़ी को गति और बढ़ानी होती है और अगर खिलाड़ी वक्त पर लाइन तक नहीं पहुंच पाता तो उसे दो बीप्स के भीतर लाइन तक पहुंचना होता है. अगर वह ऐसा करने में नाकाम रहा तो उसे फेल माना जाता है.

कहा जा रहा है कि इस टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी 21 का स्कोर बनाते है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत के विराट कोहली भी इतना ही स्कोर बनाते हैं. उनके अलावा रविंद्र जडेजा और मनीष पांडेय भी 21 का स्कोर बनाने में कामयाब रहते हैं.

इन खिलाड़ियों के बेंचमार्क सेट करने के बाद अन्य भारतीय खिलाड़ियों को भी अच्छा स्कोर बनाना पड़ रहा है. युवराज और रैना को मैदान में काफी तेज़ और फुर्तीला माना जाता है पर इस बार ये दोनो खिलाड़ी यो-यो टेस्ट नहीं पास कर पाए.

मौजूदा भारतीय टीम के लिए 19.5 से ज्यादा स्कोर जरूरी होता है. जानकारी के मुताबिक इस टेस्ट में वहीं युवराज और रैना ने बेहद खराब प्रदर्शन किया. युवराज का स्कोर सिर्फ 16 था. दरअसल भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री, कप्तान विराट कोहली और सिलेक्शन समिति के अध्यक्ष एसएसके प्रसाद स्पष्ट कर चुके हैं कि फ़िटनेस के मामले में कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

First published: 18 August 2017, 16:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी