Home » क्रिकेट » Lodha committee did not give us time in the past 2 months: Anurag Thakur
 

अनुराग ठाकुर: दो महीने से मिलने का समय नहीं दे रही है लोढ़ा समिति

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 December 2016, 12:31 IST
(एएनआई)

भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने बुधवार (21 दिसंबर) को कहा कि बीसीसीआई ने जस्टिस आर एम लोढ़ा समिति की 80 प्रतिशत सिफारिशें लागू कर दी है, लेकिन तीन चार सिफारिशों के बारे में बातचीत के लिए समिति दो महीने से मिलने का समय नहीं दे रही है.

ठाकुर का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें यह चेतावनी दी है कि वह गलतबयानी ना करें, ऐसा करने से उन पर कोर्ट की अवमानना का मामला बनेगा और उन्हें जेल भी भेजा जा सकता है.

ठाकुर ने बुधवार को यहां राजस्थान विश्वविद्यालय में लॉ कालेज छात्र संघ के कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि बीसीसीआई ने जस्टिस लोढ़ा समिति की अस्सी प्रतिशत सिफारिशों को लागू कर दिया है लेकिन तीन चार सिफारिशें लागू करना संभव नहीं है जिस पर बातचीत के लिए समिति से समय मांगा है.

उन्होंने कहा कि समिति ने दो महीने से समय नहीं दिया है. विराट कोहली को एक दिवसीय क्रिकेट टीम कप्तान बनाने की एक छात्र की मांग पर बीसीसीआई अध्यक्ष ने कहा, "हिन्दुस्तान की खासियत है कि जिस व्यक्ति ने कभी क्रिकेट नहीं खेली, वे किसी को कप्तान बनाने के लिए कहते हैं तो कोई कहता है कि क्रिकेट ऐसे खेलों, कोई कहता है कि बीबीसीआई को ऐसे चलाओ."

उन्होंने कहा, "भारत की टीम तीनों फॉर्मेट में एक दो या तीन नम्बर पर हैं. केवल बीसीसीआई ने अपने दम पर क्रिकेट के मैदान बनाए हैं, जिसके लिए हमने सरकार से कोई पैसा नहीं लिया है. किसी भी देश का बोर्ड उनके पूर्व खिलाड़ियों से लेकर वर्तमान खिलाडियों को जो सुविधाएं देता है वो कोई भी देश नहीं देता है."

उन्होंने कहा, "बीसीसीआई ने क्रिकेट में शानदार काम किया है और इसी ने ही राहुल द्रविड़ को नई जिम्मेदारी दी जिसका परिणाम हुआ कि युवा क्रिकेट खिलाड़ियों को अधिक अवसर मिले और करूण नायर जैसे कई युवा क्रिकेटर सामने आये."

उन्होने भारतीय क्रिकेट टीम की इंग्लैंड पर शानदार जीत के लिए विराट कोहली और उनकी टीम को बधाई देते हुए कहा कि भारत ने इंग्लैंड का सफाया कर दिया जिसके लिये विराट कोहली और उनकी टीम बधाई की पात्र है.

First published: 22 December 2016, 12:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी