Home » क्रिकेट » Lot of Bangladeshi Cricketers Not Understand English- Sylhet Thunder
 

बांग्लादेशी क्रिकेटर्स को समझ नहीं आती अंग्रेजी, परेशान हुए हर्शल गिब्स बोले- आता है काफी गुस्सा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2020, 16:10 IST

सिलहट थंडर के कोच हर्शल गिब्स ने कहा कि उनकी टीम के स्थानीय खिलाड़ी ठीक से अंग्रेजी नहीं समझते हैं, जो उन्हें बंगबंधु बांग्लादेश प्रीमियर लीग ट्वेंटी 20 में कोचिंग देते समय मुश्किलें पैदा कर रहा है. गौरतलब हो, बांग्लादेश प्रीमियर लीग के चल रहे सीजन में थंडर आठ मैचों में सिर्फ एक जीतने में सफल रहा है और वो टीम अंक तालिका में सबसे नीचेले पायदान पर है. सिलहट थंडर प्लेऑफ की रेस से भी बाहर हो गई है. सिलहट के स्कवाड में कुल 12 बांग्लादेशी हैं, जिनमें से पांच ने बांग्लादेश के लिए टेस्ट मुकाबले भी खेले है.

बांग्लादेश के अखबार ढाका ‌ट्रिब्यून से बातचीत में वनडे मुकाबले में सबसे पहले छह छक्के लगाने वाले इस दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी ने कहा,'स्थानीय खिलाड़ियों के साथ दिक्कत यह है कि उनमें से बहुत से अंग्रेजी नहीं समझते हैं. इसलिए मेरे लिए हर अपनी बात रख पाना काफी मुश्किल है. यह एक निराशाजनक बात है. जब मैं उनके साथ बात करता हूं तो मैं देख सकता हूं कि वो मेरी बात को सुन तो रहे हैं लेकिन वो मेरी बात को समझ नहीं पा रहे है.'


 

हर्शल गिब्स ने इसका उदाहरण भी दिया जब उन्होंने मैच के दौरान बल्लेबाज से पूछा कि आखिर वो धीमी बल्लेबाजी क्यों कर रहे है जिस पर गिब्स के अनुसार बल्लेबाज ने हां में सर हिला दिया. हर्शल गिब्स ने कहा,'मैं आपको एक उदाहरण देता हूँ. रुबेल मिया बल्लेबाजी कर रहे थे और वह 28 गेंदों का सामना करने के बाद मात्र 14 रन बनाए थे. मैं टाइम-आउट के दौरान मैदान पर आया और मैंने उनसे कहा, क्या हो रहा है आपने 28 गेंदों पर 14 रन बनाए? और जवाब में उन्होंने सिर्फ अपना सिर हिलाया! यह केवल उसकी गलती नहीं है, लेकिन यह वास्तविकता है.'

वहीं हर्शल गिब्स ने टीम के खराब प्रदर्शन पर टीम के लिए खिलाड़ियों के चयन पर भी नाराजगी जताई. हर्शल गिब्स ने सिलहट थंडर के स्कवाड के बारे में कहा,'मैंने कभी भी एक बाएं हाथ के बल्लेबाज के साथ टीम नहीं देखी. बल्लेबाजी क्रम के शीर्ष छह में से कम से कम दो बांए हाथ के बल्लेबाज होने चाहिए. ताकि आप विपक्षी गेंदबाजों पर दबाव बना सकें. लेकिन मेरे पास ऐसा नहीं है. तो, यह मुश्किल है.'

First published: 2 January 2020, 16:07 IST
 
अगली कहानी