Home » क्रिकेट » Mahendra Singh Dhoni will patrol with AK 47 and a bulletproof jacket in Srinagar
 

महेंद्र सिहं धोनी आज नए अवतार में आएंगे नजर, AK-47 के साथ करेंगे गश्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2019, 9:25 IST

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आज यानि बुधवार को नए अवतार में नजर आएंगे. दरअसल, धोनी आज पहली बार कश्मीर में आतंकवाद विरोधी यूनिट में तैनात होंगे. इसके बाद वह पैरा कमांडो की बटालियन में 15 दिन की ड्यूटी करेंगे. साथ ही इस बार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी वह वहीं नजर आएंगे. उसके बाद वह ट्रेनिंग के लिए बेंगलुरु जाएंगे. बता दें कि आतंकवादग्रस्त इलाके में धोनी को 19 किलो वजन के साजो-सामान के साथ चलते नजर आएंगे.

बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी पैरा कमांडो की जिस बटालियन में तैनात होंगे, वह मिले-जुले सैनिकों की यूनिट है. यहां वह देश के अलग-अलग इलाकों से आए करीब 700 सैनिकों के दिखाई देंगे. इनमें गोरखा, सिख, राजपूत, जाट जैसी सभी रेजीमेंट के सैनिक भी शामिल हैं. यहां धोनी दिन-रात दोनों शिफ्टों में ड्यूटी करेंगे.

इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी ऑफिसर्स मैस की जगह करीब 50 सैनिकों के साथ बैरक में ही रहेंगे. बता दें कि धोनी खुद ऐसा चाहते थे. वे सैनिकों के लिए बने क्यूबिकल में ही नहाएंगे. वहीं स्वादिष्ट बटर चिकन के लिए जानी जाने वाली इस बटालियन में हफ्ते में तीन दिन धोनी को चिकन मिलेगा. टीम इंडिया के पूर्व कप्तान धोनी को साल 2011 में सेना की टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक मिली थी.

धोनी श्रीनगर के बादामी बाग कैंट एरिया में 8-10 सैनिकों के दस्ते में गश्त करेंगे नजर आएंगे. जहां वह बुलेटप्रूफ जैकेट, एके-47 राइफल और 6 ग्रेनेड के साथ तैनात रहेंगे. बता दें कि इस ड्यूटी का मकसद लोगों के साथ मेल-मिलाप और इलाके से खुफिया जानकारियां जुटाना होता है.

यही नहीं धोनी को बतौर गार्ड यूनिट की रखवाली का काम भी मिलेगा. जो 4-4 घंटे की दो शिफ्ट में किया जाता है. जिसमें दिन और रात दोनों तरह की ड्यूटी देनी होती है. जब दिन की ड्यूटी होगी तब धोनी को सुबह 4 बजे उठना होगा. और रात की ड्यूटी होने पर उन्हें सुबह जल्दी उठने में छूट मिलेगी.

इसके अलावा उन्हें बंकर में बिना पलक झपके खड़े रहना पड़ सकता है. ये शिफ्ट दो-दो घंटे की होगी जो तीन बाई लगाई जाती है. जिसमें धोनी के धैर्य की परीक्षा ली जाएगी. बता दें कि इस ड्यूटी के दौरान चुपचाप खड़े रहना और बिना हिले-डुले लगातार आते-जाते लोगों को देखते रहना पोस्ट ड्यूटी का सबसे अहम हिस्सा होता है.

धोनी ने नहीं दिया था 33 मैचों तक मौका, अब तीन अर्धशतक ठोक बना 'नंबर एक बल्लेबाज'

First published: 31 July 2019, 9:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी