Home » क्रिकेट » Ms Dhoni becomes the first Indian and 4th in world wicket-keeper to effect 400 dismissals in ODIs
 

विकेट के पीछे ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने एमएस धोनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 February 2018, 12:49 IST

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज़ महेंद्र सिंह धोनी ने बुधवार को साउथ अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन में खेले गए वनडे में एक नया इतिहास रच दिया. इस मैच में उन्होंने टीम इंडिया के स्पिनर कुलदीप यादव की बॉल पर साउथ अफ्रीका के कप्तान एडेन मार्करम को स्टम्प कर वनडे क्रिकेट में अपने 400 शिकार पूरे कर लिए.

टीम इंडिया की तरफ से विकेट के पीछे 400 शिकार करने वाले वह पहले खिलाड़ी बन गए हैं. साथ ही एमएस धोनी ये कारनामा करने वाले दुनिया के चौथे विकेटकीपर बन गए हैं. बता दें कि टीम इंडिया के इस धाकड़ और चालाक विकेटकीपर ने अब तक खेले 315 वनडे मुकाबलो में 400 शिकार किए हैं.

ये भी पढ़ेंः विराट ने दौड़ कर लगाया 'रनों का शतक', बनाए कई रिकॉर्ड

इसमें 294 कैच और 106 स्टंपिंग भी शामिल हैं. स्टंपिंग के मामले में धोनी दुनिया में सबसे ज्यादा शिकार करने वाले विकेटकीपर हैं. धोनी के बतौर विकेटकीपर बेस्ट प्रदर्शन की बात करें तो उन्होंने 2 सितंबर 2007 को इंग्लैंड के खिलाफ लीड्स के मैदान पर 6 शिकार (कैच-5, स्टम्प 1) किए थे.

धोनी से पहले वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में 400 से ज़्यादा शिकार करने वाले विकेटकीपर में श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगाकारा, आॅस्ट्रेलिया के दिग्गज एडम गिलक्रिस्ट और साउथ अफ्रीका के मार्क बाउचर का नाम शामिल हैं. संगाकारा ने अपने करियर में 482 शिकार किए हैं जो कि अब तक का वर्ल्ड रिकॉर्ड है. संगाकार ने विकेट के पीछे 383 कैच और 99 स्टंपिंग किए हैं.

वहीं, ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज गिलक्रिस्ट ने विकेट के पीछे 472 शिकार किए हैं, जिसमें 417 कैच और 55 स्टंपिंग शामिल हैं. इसके अलावा इस लिस्ट में नंबर तीन विकेटकीपर साउथ अफ्रीका के मार्क बाउचर है. उन्होंने विकेट के पीछे 295 मैचों में 424 (कैच-402, स्टंप-22) खिलाड़ियों को अपना शिकार बनाया था.

आपको बता दें इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट में एमएस धोनी ने साल 2004 में 23 दिसंबर को चटगांव में बांग्लादेश के खिलाफ डेब्यू किया था. हालांकि इस मैच में बतौर विकेटकीपर उन्हें कोई सफलता नहीं मिली थी. यहां तक कि बल्लेबाजी के लिहाज से भी धोनी बिना खाता खोले रन आउट हो गए थे.

First published: 8 February 2018, 12:48 IST
 
अगली कहानी