Home » क्रिकेट » ms dhoni breaks his silence on ipl spot fixing case in 2013, comment on N Srinivasan and gurunath meiyappan
 

धोनी ने IPL स्पॉट फिक्सिंग पर पहली बार तोड़ी चुप्पी

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 October 2017, 17:20 IST

भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पहली बार आईपीएल में हुई स्पॉट फिक्सिंग को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी है. 2013 में आईपीएल के दौरान हुए स्पॉटफिक्सिंग और सट्टेबाजी कांड ने तहलका मचा दिया था. इसके बाद चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स पर बैन लगा दिया गया था. हालांकि ये दोनों टीमें इस साव से आईपीएल में फिर से वापसी कर रही हैं. इस मामले में शांताकुमारन श्रीसंत, अजीत चंदीला सहित कई क्रिकेटरों के नाम सामने आए थे.

जांच एजेंसियों ने इस मामले में कई लोगों से बात की थी. इस स्पॉट फिक्सिंग में चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के मालिक गुरुनाथ मयप्पन और उनके ससुर और पूर्व बीसीसीआइ अध्यक्ष एन श्रीनिवासन पर भी तमाम अनियमितताओं के आरोप लगे थे. जांच एजेंसियों ने इस मामले में धोनी से भी पूछताछ की थी. पत्रकार राजदीप सरदेसाई की किताब ‘डेमोक्रेसी इलेवन’ में धोनी ने इस बाता का जिक्र किया है कि मयप्पन के बारे में उन्होंने उस समय क्या बयान दिया था.

धोनी ने खुलासा किया है कि ये पूरी तरह से झूठ है कि मैंने जांच कमेटी के समक्ष कहा था कि मयप्पन सिर्फ एक क्रिकेट फैन हैं. मैंने सिर्फ इतना कहा था कि उनका टीम के निर्णयों से कुछ लेना देना नहीं है. मैं तो 'enthusiast' शब्द का सही उच्चारण भी नहीं कर सकता हूं. इसके अलावा धोनी ने श्रीनिवासन के बारे में कहा कि मुझे सच में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग क्या कहते हैं. श्रीनिवास ऐसे व्यक्ति रहे हैं जिसने हमेशा क्रिकेटरों की मदद की है.

गौरतलब है कि धोनी ने साल 2008 से 2015 तक इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी सीएसके की कप्तानी की. सुप्रीम कोर्ट ने सट्टेबाजी में लिप्त पाये जाने के बाद मयप्पन पर क्रिकेट से जुड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था. सूत्रों के मुताबिक धोनी एक बार फिर चेन्नई के कप्तान की भूमिका में नजर आ सकते हैं.

First published: 27 October 2017, 17:20 IST
 
अगली कहानी