Home » क्रिकेट » MS Dhoni gets his last Player or Man Of Match Awards in june 2017 in ODI Dhoni gets Mom awards 21 time in ODI History
 

धोनी को आखिरी 'मैन ऑफ द मैच' मिले हो गया है इतना समय, आकंड़े दे रहे हैं संन्यास के संकेत

विकाश गौड़ | Updated on: 20 July 2018, 12:55 IST
(File Photo)

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और मौजूदा विकेटकीपर बल्लेबाज एमएस धोनी ने इंग्लैंड टूर पर कई रिकॉर्ड अपने नाम किए. इस बीच एमएस धोनी को धीमी बल्लेबाजी के लिए आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा था. फिलहाल, धोनी इंग्लैंड से इंडिया के लिए रवाना हो जाएंगे क्योंकि अब टीम इंडिया यहां करीब दो महीने टेस्ट सिरीज खेलेगी.

ऐसे में एमएस धोनी टेस्ट से संन्यास ले चुके हैं और उन्हें इंग्लैंड से इंडिया आना होगा. इस बीच कैच हिंदी की टीम ने कुछ आंकड़े निकाले हैं जो वाकई हैरान करने वाले हैं. क्या आपको बता है एमएस धोनी को आखिरी बार कब मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड मिला है? साथ ही आपको बताएंगे अभी तक धोनी कितने मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड जीत चुके हैं.

300 से ज्यादा वनडे मुकाबले खेलने वाले एमएस धोनी ने अपने करियर में अभी तक 21 बार मैन ऑफ द मैच का खिताब जीता है. वहीं, अगर धोनी के आखिरी मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड की बात करें तो धोनी को एक साल से ज्यादा का समय हो गया है लेकिन एक भी मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड नहीं जीता है.

एमएस धोनी ने आखिरी बार साल 2017 30 जून को वेस्ट इंडीज के खिलाफ आखिरी मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड जीता था. उस मैच में धोनी ने 79 गेंद खेलकर 78 रन बनाए थे, जिसमें 4 चौके और 2 छक्के शामिल थी. साथ ही इस मैच में धोनी ने विकेट के पीछे एक स्टंप आउट भी किया था.

इससे पहले अगर धोनी के मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड की बात करें तो वो साल 2015 में 14 अक्टूबर को मिला था. जब धोनी ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ 86 गेंदों में नाबाद 92 रन बनाए थे, जिसमें 7 चौके और 4 छक्के शामिल थे. इसके अलावा इस मैच में धोनी ने तीन कैच और एक स्टंप किया था.

वहीं, अगर उनके तीसरे आखिरी मैन ऑफ द मैच की बात करें तो ये साल 2013 में आया था. जब धोनी ने 52 गेंदों में 45 रन बनाए थे, जिसमें 5 चौके और 2 छक्के शामिल थे. इस मैच में धोनी ने श्रीलंका के तीन बल्लेबाजों को स्टंप और एक खिलाड़ी को कैच आउट किया था.

 

बता दें कि किसी भी खिलाड़ी को मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड इसलिए दिया जाता है क्योंकि उस खिलाड़ी की उस मैच में परफॉर्मेंस काफी अच्छी होती. ऐसा नहीं है कि धोनी को अपना अनुभव और हुनर दिखाने का मौका नहीं मिला है लेकिन वो ज्यादातर बार असफल हुए हैं और ऐसे में नुकसान टीम इंडिया का हुआ है.

यहां तक कि हाल ही में एमएस धोनी इंग्लैंड के दौरे पर थे यहां उनके पास आखिरी दो वनडे मुकाबलों में मौका था कि वो खुद को साबित कर सकें कि वो मैच फिनिशर हैं लेकिन वह ऐसा एक भी बार नहीं कर पाए. पहले मैच में धोनी ने जहां 37 रन बनाए तो वहीं दूसरे मैच में 44 रन बनाकर आउट हो गए. पूरे दौरे पर धोनी छक्का तक नहीं लगा सके.

First published: 20 July 2018, 12:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी