Home » क्रिकेट » Mumbai Indians romp home their third IPL win to beat Rising Pune Supergiant in IPL 2017 on this day MI vs RPS Match Today
 

आज का दिनः 1 रन से पुणे को हराकर तीसरी बार मुंबई इंडियंस बनी थी IPL की बादशाह

विकाश गौड़ | Updated on: 21 May 2018, 9:09 IST

20-20 ओवर का मैच यानी क्रिकेट का सबसे छोटा फोर्मेट. इस फोर्मेट में कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं होता और कोई भी गेंदबाज स्पेशलिस्ट नहीं होता. लेकिन कई बार ऐसा भी हो जाता है कि 11 सदस्यीय टीम के लिए आसान सा लक्ष्य विशाल लगने लगता है और वह टीम मामूली अंतर से हार जाती है.

जी हां, आज से एक साल पहले यानी साल 2017 में 21 मई को ऐसा ही कुछ देखने को मिला था जब IPL 2017 का फाइनल मुकाबला हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में खेला गया. इस मुकाबले में आमने-सामने थीं दो बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस और अपना आखिर सीजन खेल रही राइजिंग पुणे सुपरजाइंट.

आपको बता दें, राइजिंग पुणे सुपरजाइंट का उदय तब हुआ जब चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स पर दो साल के बैन लग गया. इस दौरान पुणे के अलावा गुजरात लाइंस ने भी दो साल आईपीएल खेला लेकिन सुरेश रैना की अगुवाई वाली टीम हर मोर्चे पर फिसड्डी साबित हुई.

वहीं, पुणे की कमान पहली साल (2016) एमएस धोनी के हाथों में लेकिन दूसरी साल टीम की कप्तानी ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज स्टीव स्मिथ को सौंप दी गई. इसके पीछे कारण था कि धोनी टीम को प्लेऑफ में भी नहीं पहुंचा सके लेकिन स्मिथ ने अपने दम पर टीम को फाइनल तक पहुंचा दिया लेकिन टीम मैच हार गई.

ये हार भी कोई हार जैसी नहीं थी. मतलब ये कि IPL के दसवें सीजन के फाइनल मुकाबले को राइजिंग पुणे सुपरजाइंट एक रन से हारी थी. ऐसे में इस हार को हार की संज्ञा तो देंगे लेकिन जीत से मेहरूम रहने वाले पुणे की तारीफ भी करेंगे क्योंकि मुंबई पुणे से कभी जीत नहीं पाई थी.

इस मुकाबले का रोमांच यही नहीं था कि पुणे इस ऐतिहासिक मुकाबले को एक रन से हारी थी. हैरान करने वाली बात तो ये थी कि इस मुकाबले में मुंबई इंडियंस ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए कोई विशाल स्कोर खड़ा नहीं किया था. आपको बता दें इस मुकाबले में मुंबई ने 8 विकेट पर 129 रन बनाए थे. 

इस अहम मुकाबले में पुणे को मिला 130 रनों का लक्ष्य कोई बड़ा नहीं था क्योंकि टीम के पास अजिंक्य रहाणे, राहुल त्रिपाठी, स्टीव स्मिथ, एमएस धोनी और मनोज तिवारी जैसे बल्लेबाज थे जो हर परिस्थिति में रन बनाना जानते थे. हालांकि टीम को खराब शुरुआत मिली लेकिन दूसरे विकेट के लिए स्मिथ और रहाणे के बीच अर्धशतकीय साझेदारी हुई.

इसके बाद रहाणे आउट हो गए. रहाणे के बाद पूर्व कप्तान धोनी आए लेकिन वह भी दस रन के निजी स्कोर पर चलते बने. यहां तक भी पुणे की जीत सुनिश्चित थी क्योंकि टीम को बची 22 गेंदों में सिर्फ 32 रन बनाने थे. देखते ही देखते मैच आखिरी ओवर तक चला गया. लेकिन एक छोर पर कप्तान स्टीव स्मिथ एक उम्मीद की तरह टिके थे. 

ऐसा था आखिरी ओवर का रोमांच

मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने मिशेल जॉनसन का एक ओवर बचाकर रखा था जो आखिर में काम आया. इस दौरान पुणे का स्कोर 19 ओवर में 119 रन था. लिहाजा जॉनसन के पास बोर्ड पर अपनी टीम को बचाने के लिए दस रन थे इससे ज्यादा अगर वो रन खर्च करते तो टीम की हार निश्चित थी. लेकिन हुआ बहुत रोमांचक.

जॉनसन ने पहली गेंद मनोज तिवारी को डाली तो तिवारी बॉल को शानदार तरीके से बैकवर्ड स्क्वॉयर लेग पर खेल दिया जहां टीम को 4 रन मिल गए. पहली गेंद पर चौका टीम के लिए बॉनस था लेकिन अगली ही गेंद पर मनोज तिवारी पोलार्ड को कैच दे बैेठे और आउट हो गए. लेकिन इस बीच स्टीव स्मिथ ने चतुराई से स्ट्राइक हासिल कर ली.

अब रोमांचक ओवर की तीसरी गेंद थी पुणे को जीत के लिए सात रन चाहिथ थे स्ट्राइक पर थे स्टीव स्मिथ. स्मिथ ने जॉनसन की गेंद को स्वीपर कवर की दिशा में खेला जहां अकेले अंबाती रायडू फील्डिंग कर रहे थे. लिहाजा स्मिथ भी चलते बने. मुंबई की जान में जान आई लेकिन अभी भी सब कुछ मुंबई के पक्ष में नहीं था क्योंकि तीन गेंद बाकी थीं.

 

 

जॉनसन की हैट्रिक बॉल के सामने थे वॉशिंगटन सुंदर. सुंदर के बॉल बल्ले से नहीं लगी लेकिन उन्होंने एक रन लेकर स्ट्राइक चेंज कर ली. अब दो गेदों में पुणे को 6 रन की दरकार थी. इस बार जॉनसन के सामने थे डेनियल क्रिशिचियन. क्रिशिचियन ने जॉनसन की गेंद को हवा में खेला जहां हार्दिक पांड्या से गेंद पकड़ी नहीं गई और दो रन मिल गए.

पुणे पहला आईपीएल खिताब जीतने से एक बॉल या यूं कहें कि एक शॉट दूर थी. एक गेंद पर टीम को चार रन चाहिए थे. बस एक शानदार शॉट टीम को जीत दिला सकता था. क्रिशिचियन ने जॉनसन की गेंद पर शानदार शॉट भी लगाया लेकिन गेंद जे सुचित ने फील्ड किया और जल्दी से पार्थिव पटेल को थ्रो कर दिया बाकी पटेल ने क्रिशियन को तीसरा रन लेने से पहले आउट कर दिया.

इस तरह मुंबई इंडियंस तीसरी बार आईपीएल की विजेता बन गई. इस मैच के हीरो रहे ऑलराउंडर कृणाल पांड्या जिन्होंने बल्ले से शानदार प्रदर्शन किया. पांड्या ने 38 गेदों में बेसकीमती 47 रन की पारी खेली लेकिन रोहित शर्मा ने उनको गेंद नहीं सौंपी. लेकिन वहीं, साल 2018 यानी IPL के मौजूदा सीजन की बात करें तो मुंबई इंडियंस का सफर खत्म हो गया है.

First published: 21 May 2018, 8:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी