Home » क्रिकेट » Not only Smog in Delhi stopped IND v SL Test match, there were many cases earlier that forced players to wait
 

दिल्ली से पहले भी दुनिया में इन वजहों से रोके जा चुके हैं क्रिकेट मैच

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 December 2017, 20:25 IST

यूं तो नई दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में रविवार को श्रीलंका खिलाड़ियों द्वारा मैच रोकने के लिए वायु प्रदूषण का बहाना बनाने की जमकर आलोचना हो रही है. लेकिन इसके साथ ही सवाल उठने लगे हैं कि क्यों बार-बार कहने के बावजूद श्रीलंका के मैच रोकने पर जुर्माना नहीं लगाया गया. हालांकि पहले भी तमाम वजहों से मैदान पर खेले जा रहे क्रिकेट मैच रोके जा चुके हैं.

कुछ मैचों को रोके जाने की वजहें काफी रोचक और मजाकिया भी रही हैं. अक्टूबर 2008 में दिल्ली में खेले गए भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के तीसरे टेस्ट मैच में अचानक भारी तादाद में मधुमक्खियों के झुंड ने हमला बोल दिया था. जिसके बाद मैदान पर अंपायर बिली बाउडेन, रिकी पॉन्टिंग, मैथ्यू हेडेन समेत भारतीय टीम के खिलाड़ियों ने मैदान पर लेटकर खुद को मधुमक्खियों के हमले से बचाया था. इसकी वजह से काफी देर तक मैच रुका रहा था.

इस बारे में स्पोर्ट्स वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने एक वीडियो बनाकर यह रोचक जानकारी शेयर की है. वीडियो के मुताबिक हाल ही में 3 नवंबर 2017 को दिल्ली-उत्तर प्रदेश के बीच खेले जा रहे रणजी मैच के दौरान दिल्ली में एक व्यक्ति अपनी ग्रे कलर की मारुति वैगनआर कार लेकर मैदान के भीरत क्रीज पर आ पहुंचा और दो बार क्रीज पर अपनी कार चलाई. इसके चलते मैच को रोकना पड़ा.

इससे पहले भी तमाम ऐसे मामले हुए हैं जिनमें मैच को रोकना पड़ा. इनमें एक बार बाघ के आने से तो एक बार सुअर के आने पर मैच बाधित हुआ. फरवरी 1995 में दक्षिण अफ्रीका में हो रहे एक घरेलू मैच के दौरान डेरिल कलिनन ने बोलैंड रोजर की गेंद पर ऐसा छक्का मारा कि गेंद स्टेडियम में बैठे दर्शक के पास गिरी. लेकिन इस गेंद के गिरने का स्थान थोड़ा अलग था क्योंकि यह गेंद उस दर्शक द्वारा फ्राइंग पैन में पकाई जा रही कैलामारी के ऊपर गिरी.

वहां से गेंद लेकर वापस मैदान में लाई गई और अंपायरों ने पहले उसे 10 मिनट तक ठंडा किया और फिर उसके ऊपर लगा तेल हटाने की कोशिश की. लेकिन फिर भी गेंदबाज उस बॉल पर ग्रिप नहीं कर पाए जिसके चलते अंपायरों ने गेंद बदली.

इससे पहले जनवरी 1983 में ऑस्ट्रेलिया में एक मैच के दौरान मैदान पर छोटा सुअर आ गया था, जिसे पकड़ने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ी और इस दौरान मैच को रोकना पड़ा.

वहीं, अप्रैल 2007 में ओवल में हुए एक मैच के दौरान आयोजकों ने धूम्रपान न करने का संदेश देने के लिए एक व्यक्ति को बहुत बड़ी सिगरेट की ड्रेस पहनाकर स्टेडियम में स्क्रीन के पास बैठाया था. लेकिन दुर्भाग्यवश जब गेंदबाज ने गेंद फेंकी तो बल्लेबाज अपनी जगह से हट गया और सिगरेट की ड्रेस पहने व्यक्ति की ओर ईशारा किया, इसके बाद घोषणा करनी पड़ी कि सिगरेट कृपया बैठ जाइए. इस दौरान भी मैच रोकना पड़ा अंपायर ने स्क्रीन के पास जाकर सिगरेट से बैठने के लिए कहा.

मई 2011 में हैंपशायर और साउथ विल्स के बीच रोज बॉल नर्सरी ग्राउंड में मैच खेला जा रहा था. तभी वहां मौजूद एक दर्शक ने बताया कि मैदान के बगल में बने गोल्फ कोर्स में एक बाघ नजर आया है. इसके बाद सुरक्षा के लिहाज से खिलाड़ी वापस लौट गए और हेलीकॉप्टर्स के जरिये मैदान की खोजबीन की गई और थर्मल कैमरे का इस्तेमाल किया गया. करीब 20 मिनट बाद मैच वापस शुरू हो सका. हालांकि बाद में पता चला कि वहां एक खिलौना बाघ (स्टफ टॉय) था.

वहीं, क्रिकेट कंट्री वेबसाइट के मुताबिक सोमरसेट और सुरे के बीच होने वाले एक मैच को बर्फबारी के चलते रोकना पड़ा था. जबकि 1975 में डर्बीशायर के बक्सटन में लंकाशायर और डर्बीशायर के बीच खेले जाने वाले में भारी बर्फबारी हो गई और मैच को रोकना पड़ा.

इसके अलावा दुनिया भर में होने वाले तमाम मैचों के दौरान क्रिकेट मैदान पर कुत्ता, बंदर, बतख, प्रशंसकों के आने से भी न जाने कितनी बार  मैच को रोकना पड़ा है.

First published: 3 December 2017, 20:25 IST
 
अगली कहानी