Home » क्रिकेट » on this day 4 march 2008 india won their 1st ever tri series in australia
 

4 मार्च, 2008: आज के दिन ही भारत ने रौंदा था ऑस्ट्रेलियाई गुरूर

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 March 2018, 13:45 IST

भारत 4 मार्च, 2008 की वो तारीख कभी नहीं भूल सकता जब भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में घुसकर मात दी थी. हम किसी और मात की बात नहीं कर रहे बल्कि क्रिकेट मैच में मात की बात कर रहे हैं. जी हां भारतीय टीम ने आज के ही दिन ऑस्ट्रेलिया का गुरूर तोड़ा था. ये वो ताुरीख है जब भारत ने क्रिकेट की दुनिया में ऑस्ट्रेलिया के राज को खत्म किया था.

भारत ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया से उन्हीं के घर में वनडे ट्राई सीरीज जीतकर टेस्ट सीरीज में हार का बदला लिया था. इससे पहले टेस्ट सीरीज भारत गंवा चुकी थी. उस सीरीज में हरभजन सिंह-एंड्र्यू सायमंड्स विवाद ने पूरे क्रिकेट जगत को हिलाकर रख दिया था. भारी दबाव के बीच टीम इंडिया को अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे ट्राई सीरीज खेलनी थी जिसमें तीसरी टीम श्रीलंका थी.

भारतीय टीम ने दबाव में बेहतरीन खेल दिखाते हुए फाइनल में पहुंची थी और उसके सामने वही टीम थी ऑस्ट्रेलिया. कॉमनवेल्थ बैंक सीरीज के फॉर्मेट के आधार पर बेस्ट ऑफ थ्री फाइनल खेले जाने थे. इसका मतलब जो भी टीम दो फाइनल जीतता उसी को सीरीज मिलती. ऐसे में भारत ने 2 मार्च को खेले गए पहले फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हराकर पहला फाइनल अपने नाम कर लिया था.

वहीं जब दूसरा फाइनल शुरू हुआ तो किसी को उम्मीद नहीं थी कि भारतीय टीम इतनी आसानी से ऑस्ट्रेलिया का दूसरे मैच में भी पटखनी दे देगी. 4 मार्च को खेले गए दूसरे फाइनल में भारत ने पहले बल्लेबाजी की थी. भारत के सामने बड़ा स्कोर बनाने की चुनौती थी. 

भारत ने पहले बल्लेबाजी की जिसमें सचिन तेंदुलकर और रॉबिन उथप्पा ने बेहतरीन शुरुआत की. दोनों ने पहले विकेट के लिए 94 रन बनाए. हालांकि अच्छी शुरुआत के बाद भी भारत का मिडिल ऑर्डर लड़खड़ा गया और अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल सका. सचिन ने एक छोर पर शानदार बल्लेबाजी की. लेकिन वह नर्वस नाइंटीज का शिकार को हो गए और 91 रन पर आउट हो गए. भारत ने सचिन की पारी की बदौलत 258 रन बनाए.

जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की शुरुआत बेहद खराब रही और टीम को पहला झटका सिर्फ 2 रन के कुल योग पर ही लग गया. कंगारुओं के विकेट लगातार गिर रहे थे और टीम के 3 विकेट 32 रन पर ही गिर गए. इसके बाद जब लग रहा था कि भारत मैच पर हावी हो जाएगा तो मैथ्यू हेडन और एंड्र्यू सायमंड्स ने पारी को संभाल लिया. दोनों ने बेहतरीन बल्लेबाजी की और स्कोर को 100 के पार पहुंचा दिया. दोनों अपनी टीम को मैच में वापस ले आए.

इसी बीच हेडन ने अपना अर्धशतक भी ठोक दिया. लेकिन अर्धशतक लगाने के बाद हेडन (55) रन बनाकर रन आउट हो गए और टीम इंडिया को बड़ा विकेट मिल गया. हेडन के आउट होने के बाद सायमंड्स ने माइक हसी के साथ मिलकर स्कोर को आगे बढ़ाया. दोनों ने अपनी टीम को मैच में बनाए रखा.

हालांकि भारत ने दबाव में अपने खेल को बिखरने नहीं दिया और हसी को आउट कर दिया. हसी के आउट होने के बाद जेम्स होप्स अड़ गए. भारत के लिए होप्स और सायमंड्स का विकेट लेना बहुच जरूरी हो गया था. इसी बीच हरभजन ने सायमंड्स को आउट कर टेस्ट सीरीज से चली आ रही दोनों के बीच की जंग को जीत लिया. भारत ने आखिर में ऑस्ट्रेलिया को 49.4 ओवरों में 249 पर ऑल आउट कर बेहद रोमांचक मैच को 9 रन से जीत लिया.

इसी के साथ भारत ने टेस्ट सिरीज से चल रही जंग को जीत लिया था. ये पहली बार था जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में ट्राई सीरीज जीती थी. भारत के लिए काफी कुछ साख पर लगा हुआ था और टीम ने बेहद दबाव में ऑस्ट्रेलिया को हराकर खुद को साबित कर दिया था.

First published: 4 March 2018, 13:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी