Home » क्रिकेट » Pakistan defeated Team India in Champions Trophy 2017 final, The defeat confirms when Virat Kohli dicided to choose field after winning toss
 

Champions Trophy: टॉस जीतने के साथ ही पाकिस्तान से मुकाबला हार गई थी टीम इंडिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 June 2017, 22:24 IST

लंदन के केनिंगटन ओवल स्टेडियम में रविवार को खेला गया आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल का नतीजा टीम इंडिया के टॉस जीतने के साथ ही तय हो गया था. टॉस जीतने के बावजूद पहले बल्लेबाजी करने की जगह फील्डिंग करना ही टीम इंडिया की हार की वजह बना. पाकिस्तान टीम द्वारा दिए गए 338 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया 30.3 ओवरों में केवल 158 रनों पर ही ढेर हो गई.

रविवार को क्रिकेट के सबसे बड़े प्रतिद्वंदियों के बीच महामुकाबले में टीम इंडिया का ताश के पत्तों की तरह बिखर जाना पूरे देशवासियों को झकझोर गया. कई दिनों से दमदार रोमांचक महामुकाबले का इंतजार कर रहे क्रिकेट प्रेमियों का रविवार, बेकार साबित हुआ और सभी को निराश कर गया. दोनों टीमों के बीच कांटें की टक्कर तो दूर, टीम इंडिया लक्ष्य का आधा भी नहीं बना सकी.

क्रिकेट पंडितों का मानना है कि टीम इंडिया के दमदार बल्लेबाजी क्रम के बावूजद कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर बेवजह फील्डिंग का फैसला लिया. पाकिस्तान ने इसका पूरा फायदा उठाया और शायद दिन भी पाकिस्तान का ही था, कि किस्मत भी उसके साथ रही. कई बार जीवनदान मिलने के बाद फखर ने 114 रन (106 गेंद, 12 चौके, 3 छक्के) जड़े और टीम इंडिया को 4 विकेट खोकर 339 रनों का भारी लक्ष्य दे दिया.

 

पाकिस्तान की मजबूत बैटिंग ने ही मुकाबले को एक तरफा कर दिया था और रही-सही कसर टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर ने कर दी. टीम इंडिया के ओपनर रोहित शर्मा को पहले ओवर की तीसरी ही गेंद पर तेज गेंदबाज आमिर ने शून्य रन पर ही वापस भेज दिया.

इसके बाद तीसरे ओवर में फिर से मोहम्मद आमिर ने टीम इंडिया को जबर्दस्त झटका दिया और चौथी ही गेंद पर कप्तान विराट कोहली को 5 रन पर शादाब खान के हाथों कैच आउट करवा दिया.

इसके बाद नौवें ओवर में आमिर ने शिखर धवन को 21 रन पर कीपर सरफराज के हाथों कैच करा दिया. 13वें ओवर में शादाब खान ने युवराज सिंह (22) को एलबीडब्लू कर दिया और इसके अगले ओवर में एमएस धोनी भी केवल चार रन के स्कोर पर कैच आउट हो गए.

टीम इंडिया ने 17वें ओवर में केदार जाधव (9) का विकेट खो दिया और फिर हार्दिक पांड्या फॉर्म में आए. पांड्या ने काफी अच्छा खेल दिखाया और भारत को सम्मानजनक स्कोर तक ले जाने की पूरी कोशिश की लेकिन 27वें ओवर में पांड्या (76 रन, 43 गेंद) पर रनआउट हो गए.

इसके बाद अगले यानी 28वें ओवर में रविंद्र जडेजा (15) रन बनाकर वापस लौट गए. 29वें ओवर टीम इंडिया का नौंवा विकेट आर अश्विन (1) के रूप में गिरा जबकि 31वें ओवर में टीम इंडिया 158 रन पर सिमट गई.

180 रनों की यह करारी शिकस्त पिछली बार के चैंपियंस ट्रॉफी विजेता टीम इंडिया को अपना खिताब छोड़ने पर मजबूर कर गई. रविवार के मैच में पहली पारी में जहां टीम इंडिया की गेंदबाजी और फील्डिंग दोयम दर्जे की नजर आई. दूसरी पारी में बल्लेबाजों ने भी साबित कर दिया कि यह टीम संभवता फाइनल मुकाबला हारने के लिए ही मैदान में उतरी थी. एक के बाद एक विकेट गिरते चले गए और खिताब दूर होता चला गया.

First published: 18 June 2017, 22:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी