Home » क्रिकेट » pakistani coach bob woolmer's suspicious death After Pakistan loss by ireland in 2007 world cup in West Indies
 

आयरलैंड से हारकर पाकिस्तान वर्ल्डकप से बाहर हो गया था, लेकिन एक और बुरी खबर आनी बाकी थी

विकाश गौड़ | Updated on: 18 March 2018, 14:40 IST

साल 2007 17 मार्च को पाकिस्तान और आयरलैंड के बीच वर्ल्ड कप का एक क्वालीफायर मैच हुआ. इस मैच को पाकिस्तान बुरी तरह हार गई और इस हार के साथ वह इस वर्ल्ड कप से बाहर हो गई. टीम के साथ जो बुरा हुआ वो तो हुआ है साथ ही टीम के कोच के साथ जो हुआ वो दिल दहला देने वाला था. दरअसल, मैच की रात पाकिस्तान के कोच बॉब वूल्मर की मौत हो गई.

मैच खत्म होने वाली रात को सब सोए लेकिन उनमे से कोच बॉब वूल्मर की आंख नहीं खुली क्योंकि वो दुनिया छोड़ चुके थे. दूसरे दिन उनके शव को होटल के बाथरूम से बिना कपड़ों के बरामद किया था. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उनके मुंह में खून था और दीवारें खून की उल्टियों से सनी हुई थीं. प्राथमिक तौर पर इस केस को हार्ट अटैक का मामला बताया गया लेकिन इसके चार दिन बाद ही इस मामले में नया मोड़ आ गया.

 

File Photo

दरअसल, वेस्ट इंडीज में खेले गए इस वर्ल्ड कप मैच के बाद जमैका के डेप्युटी कमिश्नर मार्क शील्ड्स ने बॉब वूल्मर की मौत के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की और घोषणा की कि बॉब वूल्मर का मर्डर हुआ है. इस केस में अगले कुछ महीने जांच और सबूतों को जुटाने में निकल गए लेकिन किसी निर्णय पर बात नहीं पहुंची. कहा ये भी गया कि बॉब वूल्मर आयरलैंड के हाथों मिली हार के बाद काफी परेशान थे शायद इसी कारण से उन्होंने खुद को नुकसान पहुंचाया हो.

आयरलैंड के हाथों मिली हार के बाद पाकिस्तानी टीम इस प्रतियोगिता से बाहर हो गई थी लेकिन टीम ने आखिरी लीग मुकाबला जीतकर टीम के दिवंगत कोच बॉब वूल्मर को श्रंद्धांजलि दी. इसके अगले दिन मार्क शील्ड्स ने प्रेस कॉन्फ्रेस में बताया कि बॉब वूल्मर की मौत नहीं बल्कि मर्डर हुआ है.

ये भी पढ़ेंः IND VS BAN निदाहास ट्रॉफी: क्या भारत को फाइनल में हराकर इतिहास रच पाएगी बांग्लादेश

इस केस में जब कप्तान इंजमाम-उल-हक, असिस्टेंट कोच मुश्ताक अहमद और टीम के मैनेजर तलत अली सेे बात की गई तो उनके बयानों में भिन्नता पाई गई लेकिन बाद में उन्हें पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया. काफी दिनों तक चली इस केस की छानबीन के बाद पुलिस ने कहा कि यह नेचुरल डेथ है. हालांकि अभी भी लोग इस निर्णय को सच नहीं मानते.

First published: 18 March 2018, 14:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी