Home » क्रिकेट » Rahul Dravid stopped Sachin Tendulkar and Sourav Ganguly from playing the 2007 T20 World Cup: Lalchand Rajput
 

टीम इंडिया के पूर्व कोच का बड़ा खुलासा, कहा- राहुल द्रविड़ ने सचिन और गांगुली को टी20 विश्व कप खेलने से रोका

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 June 2020, 13:15 IST

साल 2007 में एकदिवसीय विश्व कप में टीम इंडिया (World Cup 2007) की बुरी दुर्गति हुई थी, टीम सेमीफाइनल तक के लिए क्वालिफाई नहीं कर पाई थी और उसे लीग के मुकाबले में बांग्लादेश (Bangladesh) जैसी कमजोर टीम के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद उसी साल हुए टी20 विश्व कप में टीम इंडिया (ICC T20 World Cup 2007) ने महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की अगुवाई में इतिहास रचा था. महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में जिस टीम ने विश्व कप खेला, उसमें युवा खिलाड़ी थे, भले ही टीम इंडिया के पास सचिन (Sachin Tendulkar), सौरव गांगुली (Sourav Ganguly)और राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) जैसे अनुभवी खिलाड़ी थे लेकिन इन्होंने उस विश्व से खुद को दूर कर लिया था. वहीं अब टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कोच लाल चंद राजपूत (Lal Chand Rajpu) ने एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली को राहुल द्रविड़ ने ही टी20 विश्व कप खेलने (T20 World Cup) से रोका था ताकि युवा खिलाड़ियों को मौके मिल सके.

स्पोर्ट्सकीड़ा के साथ एक लाइव चैट के दौरान लालचंद राजपूत ने कहा कि टीम इंग्लैंड से सीधे दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग आई थी. ऐसे में राहुल द्रविड़ ने युवा खिलाड़ियों को मौका दिया. उन्होंने कहा,"हाँ, यह सच है कि राहुल द्रविड़ ने सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली को 2007 के टी 20 विश्व कप खेलने से रोका था. राहुल द्रविड़ इंग्लैंड में टीम इंडिया के कप्तान थे और कुछ खिलाड़ी इंग्लैंड से सीधे जोहान्सबर्ग, टी 20 विश्व कप के लिए, आए थे. इसलिए उन्होंने कहा कि आइए युवाओं को एक मौका दें."


हालांकि, इस विश्व कप से पहले किसी को उम्मीद नहीं थी कि भारतीय टीम साल 2007 का विश्व कप जीतने में सफल हो पाएगी. लेकिन टीम ने यह कारनामा कर दिखाया. लालचंद राजपूत ने आगे कहा,"लेकिन विश्व कप जीतने के बाद उन्हें इसका पछतावा होना चाहिए क्योंकि सचिन हमेशा मुझे बताते रहे कि मैं इतने सालों से खेल रहा हूं और मैंने अभी भी विश्व कप नहीं जीता है."

वहीं साल 2007 का विश्व कप धोनी के करियार के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित हुआ क्योंकि इसके बाद उन्होंने वनडे और टेस्ट टीम की भी कमान मिली. साल 2011 में धोनी की अगुवाई में सचिन तेंदुलर की टीम इंडिया के लिए विश्व कप जीतने की तमन्ना भी पूरी हो गई, जब टीम इंडिया ने साल 2011 के फाइनल में श्रीलंका को हराकर विश्व कप का खिताब अपने नाम किया था. 

चैंपियंस लीग टी20 की एक बार फिर हो सकती है वापसी, कई देशों के बोर्ड ने जताई सहमती

First published: 29 June 2020, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी