Home » क्रिकेट » HBD Sachin Tendulkar: Sachin Tendulkar 3 bowling records you might not know
 

HBD Sachin Tendulkar: सचिन तेंदुलकर के 3 गेंदबाजी रिकॉर्ड जिनके बारे में शायद ही जानते होंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2020, 11:21 IST
Sachin Tendulkar

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है, इस खिलाड़ी ने अपने खेल से भारत को कई मुकाबलों में जीत दिलाई है, इतना ही नहीं इस खिलाड़ी ने कई खिलाड़ियों को क्रिकेट खेलते हुए प्रेरित किया है. सचिन तेंदुलकर ने दो दशक तक खेलते हुए कई कीर्तिमान अपने नाम किए है. सचिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाज है . लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि सचिन तेंदुलकर को पार्ट टाइम गेंदबाज थे उन्होंने अपनी गेंदबाजी के दम पर भी कई रिकॉर्ड अपने नाम किए है.

सबसे कम उम्र में विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज


16 साल की उम्र में अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी. मुंबई के उस्ताद को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पहला विकेट लेने के लिए कुछ समय इंतजार करना पड़ा. अंत में उनका इंतजार 5 दिसंबर 1990 को समाप्त हो गया, जब उन्होंने श्रीलंका (Sri Lanka) के रोशन महानामा को बर्खास्त कर दिया. सचिन तेंदुलकर ने जब यह विकेट झटका था तब उनकी उम्र 17 साल और 224 दिन थी और वो अंतरराष्ट्रीय वनडे में विकेट लेने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय क्रिकेटर बने. सचिन तेंदुलकर ने भारतीय स्पिनर मनिंदर सिंह का रिकॉर्ड तोड़ दिया था. इस मैच में सतिन तेंदुलकर ने अपने बल्ले से भी कमला दिखाया था और उन्होंने 41 गेंदों पर 53 रन बनाए थे जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच का अवार्ड दिया गया था.

आखिरी ओवर में छह रन से कम स्कोर दो बार बचाया

अगर अंतिम ओवरों में बल्लेबाजी करने वाली टीम को 10-12 रनों से कम की जरूरत होती है तो माना जाता है कि बल्लेबाजी करने वाली टीम आसानी से यह मैच जीत जाएगी. लेकिन जब अंतिम ओवर में छह रन से कम स्कोर का बचाव करना हो तो किसी गेंदबाज के लिए यह काफी कठिन काम होता है. यही वजह है कि केवल एक गेंदबाज ने इसे दो बार हासिल किया है. तेंदुलकर एकमात्र ऐसे गेंदबाज हैं, जिन्होंने आखिरी ओवर में एक से अधिक बार छह रन से कम का बचाव किया है.

1993 में तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आखिरी ओवर में छह रन बनाए थे और उन्होंने उस ओवर में मात्र तीन रन दिए थे. इसके बाद साल 1997 में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने ओवर की पहली गेंद पर आखिरी विकेट चटकाकर यह कारनामा दोहराया.

एशिया कप में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज

सचिन तेंदुलकर को साझेदारी तोड़ने की क्षमता थी, उनकी गेंदबाजी में एकमात्र समस्या निरंतरता में कमी थी, लेकिन साल 2004 के एशिया कप में उन्होंने उस कमी को दूर कर दिया. सचिन तेंदुलकर ने 12.25 की असाधारण गेंदबाजी औसत से सिर्फ छह मैचों में 12 विकेट चटकाए थे. तेंदुलकर ने पांच पारियों में से प्रत्येक में कम से कम एक विकेट लिया. सचिन तेंदुलकर ने इस दौरान किसी भी भारतीय स्पिनर द्वारा एशिया कप के एक संस्करण में लिए गए सर्वाधिक विकेटों के रिकॉर्ड को अपने नाम किया.

कोरोना वायरस का असर, इंग्लैंड के मशहूर क्रिकेट क्लब ने मैक्सवेल के साथ रद्द किया करार

First published: 19 April 2020, 11:43 IST
 
अगली कहानी