Home » क्रिकेट » Sanjay Manjrekar Trolled For criticising Harsha Bhogle
 

कमेंट्री बॉक्‍स में हर्षा भोगले से बदतमीजी करने पर संजय मांजरेकर हो रहे ट्रोल

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 November 2019, 13:23 IST

भारत और बांग्लादेश के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज में टीम इंडिया ने बांग्लादेश को 2-0 से हराकर अपने नाम की है. कोलकाता में दोनों देशों ने पिंक गेंद से अपना पहला डे-नाइट टेस्ट मुकाबला खेला है. भारतीय टीम ने अपने पहला डे-नाइट टेस्ट मुकाबला दो दिन और तीसरे दिन के पहले घंटे में ही जीत लिया. इसी के साथ ही बांग्लादेश के किसी भी बल्लेबाज के पास भारतीय तेज गेंदबाजों का जवाब नहीं था. इस मैच में तेज गेंदबाजों की कहर बरपाती गेंद के सामने बांग्लादेशी बल्लेबाज लाचार नजर आए. भारतीय टीम ने यह मुकाबला पारी और 46 रनों के अंतर से जीत लिया.

भारत और बांग्लादेश ने इससे पहले कभी भी पिंक गेंद के खिलाफ कोई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच नहीं खेला था. हालांकि भारत के पांच खिलाड़ी ऐसे थे जिन्हें पिंक गेंद के खिलाफ इससे पहले मुकाबला खेला था लेकिन बांग्लादेश के किसी भी खिलाड़ी को नहीं पता था कि पिंक गेंद के खिलाफ किस तरह से खेलना है.

 

पिंक गेंद के मुकाबले से पहले कई तरह की चर्चा की गई. वहीं मुकाबले के दौरान पिंक गेंद रात में दिख रही है या नहीं यह बात भी चर्चा के बिंदु में रही. दरअसल. बांग्लादेश के दो खिलाड़ी को इस मुकाबले में गेंद लगी थी. जिसके बाद ये सवाल उठे थे. यह बात कमेंटेटर भी कर रहे थे.

इसी पर बात करते हुए कमेंट्री कर रहे हर्षा भोगले ने कहा कि खिलाड़ियों से गुलाबी गेंद के दिखने को लेकर पूछा जाना चाहिए. उनकी सुरक्षा का भी ख्‍याल होना चाहिए. भोगले ने कहा,'मैच का ठीक से पोस्‍टमार्टम जरूरी है और खिलाड़ियों से बात करनी चाहिए.' हालांकि उनके साथ कमेंट्री कर रहे संजय मांजरेकर इससे बात से बिल्कुल भी सहमत नहीं दिखे. उन्‍होंने हर्षा भोगले को इसका जवाब भी दिया.

लेकिन जिन लोगों ने इस पर ध्यान दिया उन्होंने कहा कि हर्षा भोगले के सवालों का संजय मांजरेकर ने बड़ी ही रूखेपन से जवाब दिया है. जिसके कारण अब संजय मांजरेकर की जमकर आलोचना हो रही है.

दोनों के बीच हुई बातचीत
हर्षा: जब इसका (मैच) पोस्‍टमार्टम होगा तब गेंद की दृश्‍यता एक चीज होगी जिसके बारे में ध्‍यान देना होगा. मांजरेकर: मुझे ऐसा नहीं लगता. गेंद का दिखना कोई मसला नहीं है. 

हर्षा: खिलाड़ियों से पूछना होगा कि वे क्‍या सोचते हैं. मांजरेकर: तुम्‍हे पूछना होगा, हमें नहीं जिन्‍होंने क्रिकेट खेला है, यह साफ है कि यह सही से दिख रही है.

हर्षा: क्रिकेट खेलने के आधार पर सवाल पूछने की वजह कुछ सीखने से नहीं रोक सकती. ऐसा होता तो टी20 क्रिकेट हो ही नहीं पाता. मांजरेकर: बात मानता हूं लेकिन सहमत नहीं हूं.

बता दें, ऐसा पहली बार नहीं है जब संजय को अपने बातों को लेकर आलोचना का सामना तरना पड़ा है. इससे पहले भी कई बार उन्हें ट्विटर पर लोगों ने ट्रेल किया है.

Video: बल्लेबाज को आउट ना देने पर अंपायर के सामने ही बच्चे की तरह रोने लगे क्रिस गेल, अंपायर की छूट गई हंसी

First published: 24 November 2019, 19:50 IST
 
अगली कहानी