Home » क्रिकेट » saurashtra vs Bengal Ranji Trophy Final single umpire is officiating from both ends
 

रणजी ट्राफी के फाइनल मुकाबले में मैच से ‘गायब’ हो गया अंपयार

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 March 2020, 12:52 IST
(Twitter Image)

Single Umpire Officiating from Both Ends: बंगाल और सौराष्ट्र (Saurashtra Cricket Team) के बीच रणजी ट्राफी का फाइनल (Ranji Trophy Final) मुकाबला खेला जा रहा है. यह मुकाबला सोमवार से शुरू हुआ है और दोनों ही टीमें इस प्रतिष्ठित ट्रॉफी पर कब्जा जमाने के लिए अपना जी जान लगा रही है. मैच के पहले दिन बल्लेबाजी करते हुए सौराष्ट ने पांच विकेट खोकर 206 रन बनाए. वहीं पहले दिन कुछ ऐसा हुआ जिसके कारण यह मैच चर्चा  का विषय बना हुआ है. दरअसल, इस मैच में एक ही अपांयर छोर से अंपायरिंग करते नजर आए.

दरअसल, रणजी ट्रॉफी फाइनल मुकाबले के दौरान अंपायर सी. शम्सुददीन विकेट गिरने के बाद चोटिल हो गए थे. जिसके कारण उन्हें मैदान से बाहर जाना पड़ा था.इतना ही नहीं वो मैच के दूसरे दिन भी अंपायरिंग के लिए भी नहीं उतरे. जिसके कारण खिलाड़ियों को एक ही अंपायर से काम चलाना पड़ा.

 ऐसा नहीं था कि शम्सुददीन के चोटिल होने के कारण कोई दूसरा अंपायर आया नहीं. आम तौर पर ऐसे समय में थर्ड अंपायर चोटिल अंपायर की जगह लेते है लेकिन थर्ड अंपयार को को डीआरएस की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. ऐसे में नहीं आ पाए जिसके कारण पीयूष कक्कड़ को मैदान पर उतारा गया. हालांकि पीयूष स्थानीय अंपायर थे तो ऐसे में नियमों के अनुसार उन्हें सिर्फ स्क्वायर लेग अंपायरिंग की जिम्मेदारी ही दी गई. ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि मुख्य अंपायर होने के लिए तटस्थ अंपायर होना जरूरी होता है.

बता दें, आमतौर पर रणजी मुकाबले में मैच रेफरी के अलावा दो अंपायर और होते है और मैच रेफरी को ही थर्ड अंपयार बनाया जाता है लेतिन इस बार थर्ड अंपायर को ही मैदानी  अंपायर बनाया गया है. वहीं बुधवार को यशवंत बर्डे अंपायरिंग करते नजर आएंगे क्योंकि शम्सुददीन पूरे मैच से बाहर हो गए है.

कोरोना वायरस का असर, खाली स्टेडियम में हो सकते हैं आईपीएल के मैच - रिपोर्ट

First published: 11 March 2020, 11:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी