Home » क्रिकेट » Shardul Thakur becomes first India cricketer to resume outdoor training
 

रेड जोन में है मुंबई फिर भी शार्दुल ठाकुर निकले आउटडोर ट्रेनिंग के लिए, भड़का बोर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 May 2020, 13:27 IST
Shardul Thakur

कोरोना वायरस (Coronavirus) के असर के कारण मार्च के अंत से ही भारत में लॉक डाउन (Lockdown) है और इस दौरान देश में सब कुछ बंद है.  इस वायरस के कारण ही क्रिकेट टूर्नामेंट स्थगित है और आईपीएल 2020 को भी स्थगित कर दिया गया है. वहीं इस दौरान भारतीय क्रिकेटर्स अपने घरों में बंद हैं. ऐसे में खिलाड़ी आउटडोर ट्रेनिंग नहीं कर पाए थे लेकिन बीते दिनों ही सरकार ने लॉक डाउन के नियमों में कुछ छूट दी थी जिसमें बाद उम्मीद लगाई गई कि खिलाड़ी आउटडोर ट्रेनिंग शुरू कर पाएंगे. टीम इंडिया के तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) ने ट्रेनिंग शुरू कर दी है और वो ऐसा करने वाले पहले भारत के क्रिकेटर बन गए.

बता दें, गृह मंत्रालय ने 31 मई तक लॉकडाउन के चौथे चरण के लिए प्रतिबंधों में ढील देने के बाद, महाराष्ट्र सरकार ने दर्शकों के बिना ग्रीन और ऑरेंज जोन में व्यक्तिगत प्रशिक्षण के लिए स्टेडियम खोलने की अनुमति दी, जिसके बाद पालघर दहानु तालुका स्पोर्ट्स एसोसिएशन (पीडीटीएसए) ने शनिवार को नेट शुरू किया और इसमें शार्दुल ठाकुर नजर आए.

शार्दुल ठाकुर, जिन्होंने एक टेस्ट, 11 एकदिवसीय और 15 टी20 में भाग लिया है, कुछ घरेलू खिलाड़ियों के साथ पालघर जिले के बोईसर में एक स्थानीय मैदान पर आए और इस दौरान उनके साथ विशेष रूप से मुंबई रणजी विकेटकीपर-बल्लेबाज हार्दिक तामोर भी थे. शार्दुल ठाकुर ने पीटीआई से कहा,"हाँ, हमने आज अभ्यास किया. यह अच्छा था और निश्चित रूप से दो महीने के बाद अभ्यास करना पसंद था."

मुंबई में क्रिकेटर्स ने सख्त सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन किया गया, प्रत्येक गेंदबाज को कीटाणुरहित गेंदों का अपना सेट मिला था. पीडीटीएसए के एक अधिकारी ने कहा,"सभी सुरक्षा उपायों का पालन किया गया. सभी गेंदबाजों को अपनी गेंदें मिलीं जो कीटाणुरहित थीं और अभ्यास के लिए आए खिलाड़ियों के तापमान को भी जांचा गया."

हालांकि, शार्दुल ठाकुर महाराष्ट्र से आते हैं और महाराष्ट्र के कई इलाके रेड जोन में है, जिसमें मुंबई भी शामिल है. ऐसे में बीसीसीआई के अधिकारियों को उनकी यह हरकत पसंद नहीं आई.


इस मामले में न्यूज़ एजेंसी आईएएनएस से बात करते हुए बीसीसीआई के एक अधिकारी ने बताया,"उनको प्रैक्टिस करने की इजाजत नहीं दी गई थी क्योंकि वह बोर्ड के करार के तरह आने वाले खिलाड़ी हैं. दुख की बात है कि वह अपने आप ही चले गए उनके ऐसा नहीं करना चाहिए था, यह कोई अच्छी बात नहीं है."

BCCI ने सुप्रीम कोर्ट में दी अर्जी, बढ़ाया जाए सौरव गांगुली और जय शाह का कार्यकाल

First published: 23 May 2020, 23:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी