Home » क्रिकेट » Sourav Ganguly feels guilty to remove his T-shirt during Natwest series finals, he reveles it in A Century Is Not Enough book
 

सौरव गांगुली ने बताया, लॉर्ड्स में टी शर्ट उतारने का आज तक है अफसोस

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 February 2018, 12:23 IST

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और दिग्गज प्लेयर सौरव गांगुली ने अपनी आत्मकथा लिखी है. ‘ए सेंचुरी इज नॉट एनफ’ नाम की इस किताब में सौरव ने क्रिकेट से जुड़ी अपनी कुछ दिलचस्प बातों को फैन्स के साथ शेयर किया है. बता दें कि सौरव गांगुली यह किताब जल्द लॉन्च होने वाली है, लेकिन किताब के लॉन्च होने से पहले इसके कुछ अंश को गांगुली ने फैन्स के साथ शेयर किया है.

 

फेमस जर्नलिस्ट बरखा दत्त से बात करते हुए पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने साल 2002 में खेले गई नैटवेस्ट सिरीज का जिक्र किया है. इसको लेकर सौरव गांगुली ने कहा, ”फाइनल मैच में जीत को लेकर टीम के सभी खिलाड़ी काफी उत्साहित थे और जहीर खान के विनिंग शॉट लगाते ही मैं अपने आपको रोक नहीं सका.” सौरव गांगुली ने ये भी बताया कि जीतने के बाद शर्ट उतारकर सेलिब्रेट करना सही नहीं था. जीत का जश्न मनाने के लिए और भी कई तरीके थे.

इसको लेकर गांगुली ने कहा, ”जब इंग्लैंड की टीम भारत आई थी तो एंड्र्यू फ्लिंटॉफ ने यह काम किया था. लॉर्ड्स में फाइनल मुकाबला जीतने के बाद मैंने भी कुछ ऐसा ही किया. हालांकि, इस घटना के बाद इसे लेकर काफी पछतावा हुआ और मैं आज तक इस बात का अफसोस कर रहा हूं. रियल लाइफ में, मैं इस तरह का इंसान नहीं हूं. खुशी जाहिर करने के और भी तरीके थे, लेकिन क्रिकेट का जुनून मुझ पर इस कदर हावी था कि मैंने फ्लिंटॉफ को उन्हीं के अंदाज में जवाब देना बेहतर समझा.”

First published: 27 February 2018, 12:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी