Home » क्रिकेट » Sourav Ganguly writes had Mahendra Singh Dhoni been in my team in 2003 Worldcup in his autobiography a century is not enough
 

काश धोनी टीम में होते तो 2003 का वर्ल्डकप जीत सकता था भारत- सौरव गांगुली

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 March 2018, 15:29 IST

भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान और मैदान पर अपनी आक्रामकता के लिए मशहूर सौरव गांंगुली ने महेंद्र सिंह धोनी के लिए बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि काश धोनी 2003 में मेरी टीम में होते तो शायद हम वह वर्ल्ड कप जीत जाते.

दरअसल सौरव गांगुली इन दिनों अपनी आत्मकथा 'ए सेंचुरी इज नॉट इनफ' में क्रिकेट से जुड़े कई रोचक किस्सों का खुलासा कर रहे हैं. उनकी यह अात्मकथा 25 जनवरी को रिलीज हुई है. इस किताब में गांगुली ने अपनी ख्वाहिश जाहिर करते हुए लिखा है, ‘काश, धोनी वर्ल्‍डकप 2003 की मेरी टीम में होते.'

 

उन्होंने आगे लिखा कि मुझे बताया गया कि जब हम वर्ष 2003 के वर्ल्‍डकप के फाइनल में खेल रहे थे, उस समय भी धोनी रेलवे में टिकट कलेक्‍टर थे, अविश्‍वसनीय.’

गांगुली ने लिखा, ‘मैंने कई वर्षों तक ऐसे खिलाड़ि‍यों पर लगातार नजर रखी जो दबाव के क्षणों में भी शांत रहते हैं और अपनी काबिलियत से मैच की तस्‍वीर बदल सकते हैं, धोनी पर मेरा ध्यान साल 2004 में गया, वे इसी तरह के खिलाड़ी थे, मैं पहले ही दिन से धोनी से बेहद प्रभावित हुआ था.’

 

गांगुली आगे लिखते हैं, ‘आज मैं इस बात से खुश हूं कि मेरा अनुमान सही साबित हुआ, यह शानदार है कि धोनी ने आज अपने आपको एक बड़े खिलाड़ी के रूप में स्‍थापित किया है.’

गौरतलब है कि सौरव की कप्तानी में ही महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी क्रिकेट करियर की शुरूआत की थी. गांगुली ने उनकी क्षमता को पहचाना और उन्हें टॉप ऑर्डर में बैटिंग करने के लिए प्रेरित किया.

First published: 1 March 2018, 15:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी