Home » क्रिकेट » south africa captain Du Plessis says Security comforts like president of any country in World XI on tour in Pakistan
 

'पाकिस्तान में खिलाड़ियों को मिल रही हैं राष्ट्रपति जैसी सुरक्षा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2017, 12:33 IST

तीन टी-20 मैचों की सिरीज के लिए पाकिस्तान पहुंची विश्व एकादश टीम के कप्तान और दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी फाफ डु प्लेसिस ने पाकिस्तान में खिलाड़ियों को मिल रही सुरक्षा पर बड़ा बयान दिया है.

फाफ डु प्लेसिस ने सोमवार को कहा कि उनकी सुरक्षा व्यवस्था ऐसी चाक चौबंद की गई थी जैसी आमतौर पर राष्ट्रपति के लिए की जाती है. इसे देखने के बाद उन्हें लगा कि जैसे वह किसी फिल्म का हिस्सा हों. पाकिस्तान में लंबे अरसे बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बहाली हो रही है. पाकिस्तान अपने घर में विश्व एकदाश के खिलाफ 12, 13 और 15 सितंबर को तीन टी-20 मैच खेलेगा. 

यहां पहुंचने के बाद डु प्लेसिस ने विश्व एकादश की तरफ से पाकिस्तान में खेलने को लेकर हामी भरने के बारे में बताया.  खेल वेबसाइट क्रिकइंफो ने डु प्लेसिस के हवाले से लिखा, "जब इस तरह की बातें आपके सामने आती हैं तो आप जाहिर सी बात है कि पुरानी बातों को लेकर सोचते हैं, लेकिन जैसे ही हमनें उन लोगों से बात की जिनके पास सुरक्षा का जिम्मा था उसके बाद सब सही हो गया."

उन्होंने कहा, "एक खिलाड़ी के तौर पर आप मानसिक शांति चाहते हो और यह उन्होंने हमें दी. वे लोग इस बात को लेकर आश्वस्त थे कि सब कुछ समान्य रूप से होगा और किसी तरह की दिक्कत नहीं आएगी, जैसे ही हम विमान में बैठे डर खत्म हो चुका था. हम सिर्फ यहां पहुंचना चाहते थे और विश्व क्रिकेट में एक अच्छे बदलाव का अनुभव करना चाहते थे. पिछले 24 घंटे काफी अजीब थे, क्योंकि हम उन चीजों को लेकर उत्साही थे जिन्हें लेकर एक खिलाड़ी होते हुए हम आमतौर पर नहीं होते हैं. व्यक्तिगत विमान में चढ़ना, हमें ऐसा लग रहा था कि हम किसी फिल्म में हैं."

डु प्लेसिस ने कहा कि वह इस बात से खुश हैं कि भविष्य में वह अपने आप को एक ऐसे शख्स के रूप में देखेंगे जिसने पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट बहाली के लिए कदम उठाया. उन्होंने कहा, "एक कप्तान के तौर पर आप हमेशा ही अपना प्रभाव छोड़ना चाहते हैं. जब कोच एंडी फ्लॉवर का मेरे पास फोन आया और उन्होंने मुझसे कहा कि वह मुझे विश्व एकादश का कप्तान देखना चाहते हैं तो मैंने सोचा मेरे लिए यह अच्छा मौका है." 

दक्षिण अफ्रीका के कप्तान ने कहा, "भविष्य में जब मैं अपने परिवार के साथ बैठूंगा तो इसे याद रखूंगा और कह सकूंगा कि मेरे लिए इसका हिस्सा बनना बेहद सम्मान की बात थी. मैं कह सकूंगा कि मैंने पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की बहाली में अपना योगदान दिया है."

गौरतलब है कि 2009 में पाकिस्तान दौरे पर आई श्रीलंका क्रिकेट टीम की बस पर आतंकवादियों ने हमला कर दिया था. इस घटना के बाद सभी देशों ने पाकिस्तान में क्रिकेट खेलने से मना कर दिया था. इसी कारण पाकिस्तान को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को अपना घर बनाना पड़ा था.

First published: 12 September 2017, 11:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी