Home » क्रिकेट » Sri Lanka vs Bangladesh, 6th T20 Nidahas Trophy 2018: both team spoils the sportsman spirit, people calles cricket to gentleman game
 

SL vs BAN: जेंटलमैन गेम पर दोनों टीमों ने कभी ना धुलने वाला कलंक लगाया है

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 17 March 2018, 15:58 IST

बांग्लादेश और श्रीलंका के बीच शुक्रवार को कोलंबो के प्रेमदासा स्टेडियम में निदाहास ट्रॉफी का मैच खेला जा रहा था. ये मैच दोनों टीमों के लिए करो या मरो वाला था. ये T20 सिरीज तीन देशों के बीच खेली जा रही थी. टीम इंडिया इस सिरीज की तीसरी टीम थी जो पहले ही फाइनल में पहुंच चुकी थी.

शुक्रवार को खेला जाना मैच दोनों टीम किसी भी हाल में जीतना चाहता है. बांग्लादेश पर श्रीलंका घायल शेर की तरह पलटवार करने को बेताब था. वहीं बांग्लादेश की टीम श्रीलंका को इस सिरीज में दूसरी बार मात देकर इतिहास रचने को मजबूर थी. मैच लो स्कोरिंग था. श्रीलंका की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में 7 विकेट खोकर 159 रन बनाए. श्रीलंका की तरफ से कुसल परेरा ने 61 रन और थिसारा परेरा ने 58 रन बनाए.

इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश ने शुरूआत में अच्छी बल्लेबाजी की. ऐसा लग रहा था कि वो मैच आसानी से जीत जाएंगे. लेकिन श्रीलंका की टीम मौके की तलाश पर थी. बांग्लादेश के विकेट अचानक एक के बाद एक गिरने लगे और मैच रोमांच के चरम पर पहुंच गया. मैदान में खिलाड़ी, ड्रेसिंग रूम में टीम और ग्राउंड में मौजूद सभी दर्शकों की जैसे सांस ही अटक गई थी.

टेलीविजन पर मैच देख रहे लोग जहां थे वहीं ठहर गए. सब ये जानने को व्याकुल थे कि आखिर कौन सी टीम जीतेगी. बांग्लादेश को आखिरी ओवर में जीतने के लिए 12 रन चाहिए थे. उसके पास तीन विकेट बचे थे. मैच कहीं भी पलटी मार सकता था. श्रीलंका की टीम ने इशुरु उडाना पर भरोसा जताया, 

मैच की पहली गेंद शॉर्टपिच थी जिसे सामने खड़े बल्लेबाज नहीं खेल पाए. दूसरी गेंद को सबको इंतजार था. उडाना ने बाउंसर फेंकी और एक बार फिर बॉल मिस हो गई. बांग्लादेश के खिलाड़ी रन लेने के लिए दौड़े लेकिन मुस्तफिज़ुर रहमान आउट हो गए. लेकिन बांग्लादेश के खिलाड़ी चाहते थे कि इसे नो बॉल करार दिया जाय. इस पर बहस शुरू हो गई. पवेलियन में खड़े बांग्लादेेश के कप्तान शाकिब अल हसन अपना आपा खो गए, गुस्से  में उन्होंने अपने खिलाड़ियों को वापस बुला लिया.

आखिरी ओवर का रोमांच

किसी को समझ में नहीं आ रहा था कि ये क्या हो रहा है. जैसे तैसे सुलह के बाद जब मैच शुरु हुआ. बांग्लादेश की तरफ से मोहम्मदुल्लाह डटे हुए थे. उन्होेंने तीसरी बॉल पर चौका मार दिया. अब बांग्लादेश को तीन बॉल में 8 रन की ज़रूरत थी. मोहम्मदुल्लाह ने चौथी गेंद पर 2 रन लिए. अब दो बॉल में बांग्लादेश को जीतने के लिए 6 रन चाहिए थे.

इशुरु उडाना की पांचवी गेंद पर मोहम्मदुल्लाह ने हवा में शॉट मारा और बॉल 6 रन के लिए बाउंड्री से बाहर चली गई. इसके बाद बांग्लादेश के खेमें में खुशी की लहर थी. सबको लगा कि एक ऐतिहासिक मैच छोटे से विवाद के साथ खत्म हो गया है. लेकिन दोनों टीमों के मन में कड़वाहट बची थी. मैच जीतने के बाद ग्राउंड पर एक बार फिर बांग्लादेश और श्रींलका के खिलाड़ी आपस में भिड़ गए. 

बड़ी मुश्किल से दोनों तरफ से कुछ खिलाडि़यों और सहयोगी स्टॉफ से एक दूसरे को मारने पर उतारू खिलाड़ियों को समझाया. लेकिन जिसने भी ये नजारा देखा, वो समझ नहीं पा रहा था कि आखिर ये क्या और कैसे हो रहा है. जिस गेम पूरी दुनिया जेंटलमैन गेम के नाम से जानती है. वो न्यूनतम मर्यादा भी नहीं दिखा रहे हैं. 

ड्रेसिंग रुम के शीशे भी तोड़ डाले

इतना ही बांग्लादेश के खिलाड़ियों पर ये आरोप लग रहे है कि उन्होंने मैच जीतने के बाद ़ड्रेसिंग रुम के शीशे भी गुस्से में तोड़ डाले. पहले भी कई  बार खिलाड़ियों के बीच मैदान में स्लेजिंग और तू-तू मैं-मैं होते देखी गई है पर इस तरह की खुन्नस पहली बार लोगों ने अपने आंखो से देखी. इन दोनों टीमों के कुछ खिलाड़ियों की वजह से कल क्रिकेट पर ऐसा कलंक लगा है जिसे कभी नहीं धोया जा सकता है. आज के बाद इन दोनों टीमों के खिलाड़ियों को उनके प्रदर्शन के लिए कम और क्रिकेट की मटियामेट के लिए ज्यादा जाना जाएगा.

First published: 17 March 2018, 15:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी