Home » क्रिकेट » Sunil Gavaskar recalls 36 runs against England and compares it with MS Dhoni innings of 37 run against same host
 

धोनी की 37 रनों की पारी देख गावस्कर को याद आई अपनी 36 रन की 'महान' पारी...

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2018, 14:45 IST

दुनिया सबसे बड़े मैच फिनिशर्स में शामिल एमएस धोनी उस समय आलोचनाओं का शिकार हो गए जब वह इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में महज 37 रन बना सके. इस दौरान उन्होंने 59 गेंदों का सामना किया और केवल दो चौके लगाए. आखिरी की ओवरों में पारी का पहला छक्का लगाने के लिए धोनी ने करारा प्रहार करना चाहा तो बाउंड्री लाइन पर लपके गए. इस मैच को टीम इंडिया 86 रन से हार गई थी. इसी के साथ तीन मैचों की सिरीज 1-1 से बराबर हो गई थी.

इसके बाद एमएस धोनी की धीमी बल्लेबाजी पर सवाल उठने लगे तो टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच संजय बांगर ने उनका बचाव किया और कहा धोनी हर बार आपको मैच नहीं जिता सकते. धोनी ने वही किया जो उन्हें करना चाहिए था क्योंकि वहां से जीत संभव नहीं था. धोनी जब 37 रन पर करीब 63 के औसत से आउट होकर पवेलियन लौट रहे थे तो उन्हें हूटिंग का सामना करना पड़ा, लेकिन धोनी चुपचाप अपने तेज कदमों के साथ ड्रेसिंग रूम चले गए.

ये भी पढ़ेंः कोहली की 'विराट' टेंशन को केवल ये खिलाड़ी कर सकता है दूर, कोच ने किया खुलासा

वहीं, जब धोनी की इस पारी को लेकर क्रिकेट के दिग्गज सुनील गावस्कर से सवाल किया तो उन्होंने अपने भरे हुए घाव कुरेद लिए और अपनी एक ऐतिहासिक पारी का जिक्र कर डाला. गावस्कर ने भी इसी क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स में वो पारी खेली थी जिसके लिए उन्हें आजतक कोसा जाता है. दरअसल, वनडे मैच(तब 60 ओवर) में गावस्कर ने नॉट आउट रहते 36 रन की पारी खेली, जिसे वो खुद याद नहीं रखना चाहते लेकिन अब याद करना पड़ा.

7 जून 1975 को पहले वर्ल्ड कप के पहले मैच में इंग्लैंड का सामना भारत से हुआ. इस मैच में इंग्लैंड ने निर्धारित 60 ओवर में 334 रन बनाए. इंग्लैंड की तरफ से इस पारी में डेनिस एमिस ने 147 बॉल खेलकर 137 रन धमाकेदार पारी खेली. इसके बाद 335 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारत की टीम 202 रन से हार गई. इस मैच में सुनील गावस्कर ओपनिंग पर उतरे और पूर 60 ओवर तक मैदान पर डटे रहे. हालांकि, उन्होंने किया कराया कुछ नहीं.

ये भी पढ़ेंः भारत से चैंपियंस ट्रॉफी छीनने वाले इस पाक गेंदबाज ने मनाया विकेट लेने का जश्न तो अकड़ गई गर्दन

सुनील गावस्कर ने उस मैच में 174 बॉल का सामना किया और महज एक चौके की मदद से 36 रन बनाए. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 20.69 का था जो कि अपने आप में एक शर्मनाक है. हालांकि, धोनी और खुद का बचाव करते हुए सुनील गावस्कर ने कहा कि जब आपके सामने एक विशाल स्कोर होता है तो आपका दिमाग वैसे ही नेगेटिव हो जाता है. ऐसे में अच्छे शॉट भी डॉट बॉल में तब्दील हो जाते हैं. इससे और प्रेसर बढ़ जाता है.

First published: 17 July 2018, 14:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी