Home » क्रिकेट » Team India dependent on Sachin Tendulkar in the 1990s Sanjay Manjrekar
 

संजय मांजरेकर का बड़ा बयान, बोले- 1990 के दशक में टीम सचिन तेंदुलकर पर थी काफी निर्भर

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 May 2020, 20:17 IST
Sanjay Manjrekar

क्रिकेटर से कमेंटेटर बने भारतीय क्रिकेट टीम (India National Cricket Team) के पूर्व खिलाड़ी संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) का मानना है कि 1990 के दशक में टीम इंडिया (Team India) सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) पर काफी निर्भर थी, जो क्रिकेट इतिहास के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक है. सचिन तेंदुलकर ने साल 1989 में पाकिस्तान (Pakistan Cricket Team) के खिलाफ अपने करियर का पहला मुकाबला खेला था जिसके बाद से इस खिलाड़ी ने भारतीय टीम के लिए 664 से अधिक अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले हैं जिसमें उन्होंने 34 हजार से अधिक रन बनाए है.

टीम इंडिया के स्पिन गेंदबाज रविचंद्र अश्विन के साथ इंस्टाग्राम अकाउंट पर बातचीत के दौरान संजय मांजरेकर ने कहा कि डेब्यू के दो साल बाद ही इस खिलाड़ी ने विश्व क्रिकेट में अपनी एक अलग पहचान बना ली थी. संजय मांजरेकर ने कहा," सचिन तेंदुलकर एक बल्लेबाज ने 89 में अपना डेब्यू किया था. एक साल के अंदर ही वो न्यूजीलैंड में 80 रन बनाने में सफल हुए, और उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला शतक लगाया, और साल 91/92 के दौरान पूरा विश्व उनमें विश्व स्तरीय खिलाड़ी के रूप में देख रहा था. उम्र हमेशा एक कारक थी, सिर्फ 17 साल की उम्र में सचिन काफी होनहार थे." उन्होंने आगे कहा,"96-97 में तो सचिन अपनी लय पकड़ चुके थे. वह भारत के पहले बल्लेबाज थे जो गेंदबाजों पर हावी हो जाते थे. इससे पहले भारतीय क्रिकेट में डिफेंसिंग माइंडसेट वाले बल्लेबाज ज्यादा थे."


संजय मांजरेकर ने साल 1996 विश्व कप में श्रीलंका से भारत की सेमीफाइनल हार के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि सचिन तेंदुलकर काफी कम फेल होते थे. उन्होंने कहा,"उस समय सचिन की महानता थी कि उनकी असफलताएं उनके करियर के माध्यम से इतनी दुर्लभ और पूरे करियर के दौरान यही रहा. यह एक महान बल्लेबाज की पहचान है. सचिन का आउट होना बहुत ही दुर्लभ बात थी."

रिकी पोंटिंग ने बताया कारण आखिर क्यों उस्मान ख्वाजा को नहीं मिली सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में जगह

First published: 18 May 2020, 20:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी