Home » क्रिकेट » team india Ex caption Sunil Gavaskar talks about ms dhoni's talent and his decisions on field India vs South Africa 2nd Test
 

जानिए क्यों सेंचुरियन टेस्ट में गावस्कर को याद आए 'कैप्टन कूल'

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 January 2018, 13:33 IST

साउथ अफ़्रीका दौरे पर टीम इंडिया का पहले टेस्ट में हारने के बाद दूसरे टेस्ट में भी हार का खतरा मंडरा रहा है. सेंचुरियन टेस्ट की दूसरी पारी में टीम इंडिया के टॉप आर्डर के बल्लेबाजों का प्रदर्शन खराब रहा है. 

इसके बाद कई क्रिकेट के विशेषज्ञ और पूर्व खिलाड़ी टीम के चयन और फ़ैसलों पर सवाल उठा रहे हैं. सेंचुरियन टेस्ट में टीम मैनेजमेंट और कप्तान विराट कोहली के कुछ फैसलों ने सभी को हैरान कर दिया है. यही कारण है कि टीम इंडिया टेस्ट की नंबर वन टीम है लेकिन साउथ अफ्रीका में टीम एक औसत दर्जे का खेल खेल रही है.

 

टीम इंडिया के फैंस के अलावा भारतीय टीम पूर्व कप्तान ने भी टीम के इन फैसलों पर सवाल उठाए हैं. इन फैसलों में टीम के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे(विदेशी सरजमीं पर भारत के सबसे सफल बल्लेबाज) को बाहर रखना, पहले टेस्ट के सबसे सफल गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार को इस टेस्ट में बेंच पर बिठाना और सेंचुरियन टेस्ट के चौथे दिन टीम इंडिया के तीसरे विकेट के गिरने के बाद रोहित शर्मा की जगह मुश्किल हालात में विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल को बल्लेबाज़ी के लिए भेजने का फैसला शामिल है.

File Photo

इन फैसलों को लेकर सुनील गावस्कर ने कहा, “आप पहले टेस्ट (केपटाउन) से इस टीम के चयन को देखिए. इस टेस्ट (सेंचुरियन) में भी टीम का चयन देखिए और बाकी चीज़ें जो ये टीम कर रही है. ये टीम अलग तरह से सोच रही है, जिस पर हम में से कोई भी उंगली नहीं उठा सकता. भारतीय क्रिकेट से जुड़े हम सभी लोगों को दुआ करनी चाहिए कि ये जो कर रहे हैं वो काम कर जाए. पहले टेस्ट में वो काम नहीं किया. दूसरे टेस्ट में भी अब तक वो काम नहीं किया है.”

 

हालांकि सुनील गावस्कर टीम के इन फैसलों से इतने निराश दिखे कि उन्हें टीम इंडिया पूर्व कप्तान एमएस धोनी की याद आ गई. इस बाबत उन्होंने कहा, “काश उन्होंने संन्यास नहीं लिया होता.

उन्होंने कहा कि अगर धोनी चाहते तो वो खेल सकते थे. लेकिन साफ़ है कि उन पर कप्तानी का बहुत दबाव था. मेरे मुताबिक, उन्हें कप्तानी छोड़ कर बतौर विकेट कीपर बल्लेबाज़ टीम में बने रहना चाहिए था. क्योंकि ड्रेसिंग रूम में उनकी सलाह अनमोल है. शायद उन्होंने सोचा कि उनका चले जाना ही ठीक है.”

First published: 17 January 2018, 13:33 IST
 
अगली कहानी