Home » क्रिकेट » Terrorists Open Indiscriminate Firing During Cricket Match In Pakistan
 

पाकिस्तान में आतंकियों ने एक बार फिर क्रिकेट मैच को बनाया निशाना, मैदान पर बसराई अंधाधुंध गोलियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 August 2020, 15:17 IST

साल 2009 में पाकिस्तानी दौरे पर गई श्रीलंकाई टीम पर हुए आतंकी हमले को कोई क्रिकेट फैंस कभी नहीं भूल पाएगा. इस हमले के दौरान श्रीलंकाई टीम के कई खिलाड़ी घायल हुए थे. आतंकियों ने टीम को तब अपना निशाना बनाया था, जब टीम होटल से मैदान के लिए जा रही थी. इस हमले के बाद कई सालों तक पाकिस्तान में कोई भी टीम दौरा नहीं करती थी. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड कोशिश करती रही और उसे शुरूआती कामयाबी भी मिली. हालांकि, बोर्ड अभी तक इससे पूरी तरह से उबर नहीं पाया था कि एक बार फिर आतंकियों ने एक मैच को अपनाया निशाना बनाया है.

दरअसल, पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत कोहाट डिवीजन में ओराक्जई जिले के द्रदर ममाज़ई क्षेत्र में एक लोकल क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल के दौरान आतंकियों ने अंधाधुंध गोलियां चलाईं है. द न्यूज़ की एक रिपोर्ट के अनुसार, चश्मदीदों ने कहा कि अमन क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल के दौरान बड़ी संख्या में दर्शक आए थे, जिनमें राजनीतिक कार्यकर्ता और मीडियाकर्मी शामिल भी हैं. जैसे ही खेल शुरू हुआ, आतंकवादियों ने पास की पहाड़ियों से खेल के मैदान पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं.

हालांकि, किसी तरह से खिलाड़ी, दर्शक और पत्रकार घटनास्थल से भागकर अपनी जान बचाने में सफल रहे. रिपोर्ट में एक दर्शक के हवाले से कहा गया है कि गोलीबारी इतनी अधिक हो रही थी कि आयोजकों के पास खेल को समाप्त करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था. उन्होंने कहा कि जब पास की पहाड़ियों से गोलीबारी शुरू हुई तो सभी कवर के लिए दौड़े. हालांकि, घटना में किसी भी तरह की जान-माल की हानि नहीं हुई.

ENG vs PAK 1st Test: सरफराज अहमद से उठवाए गए जूते, भड़के शोएब अख्तर, मैनेजमेंट को सुनाई खरी-खरी


IPL 2020 के लिए धोनी ने कसी कमर, रांची में शुरू किया अभ्यास

First published: 7 August 2020, 15:00 IST
 
अगली कहानी