Home » क्रिकेट » Two Australia and three from England cricketers involved in fixing in India and srilanka test matches : Al Jazeera sting
 

स्टिंग में खुलासा, ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड के 5 खिलाड़ी मैच फिक्सिंग में शामिल

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 May 2018, 12:32 IST
(सांकेतिक (फाइल) फोटो)

अल जजीरा टीवी नेटवर्क ने एक कथित स्टिंग ऑपरेशन किया है, जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया है. इस स्टिंग ऑपरेशन में पांच अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के मैच फिक्सिंग में शामिल होने की बात कही गई है, जिसमें तीन खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया और दो खिलाड़ी इंग्लैंड के शामिल बताए गए हैं. हालांकि अल जजीरा ने इन पांच खिलाड़ियों की पहचना उजागर नहीं की है. उसने कहा कि उन खिलाड़ियों के नामों को आईसीसी को भेज दिया गया है. आईसीसी ने जांच शुरू कर दी है. 

बता दें कि अल जजीरा ने मैच फिक्सिंग को लेकर एक 54 मिनट की डॉक्यूमेंट्री वीडियो जारी किया है. इस वीडियो में तीन टेस्ट मैचों में स्पॉट फिक्सिंग होने की बात कही गई है. इन तीन टेस्ट मैचों में दो भारत में खेल गए थे, जिसमें 16 से 20 दिसंबर 2016 को चेन्नई में भारत और इंग्लैंड के बीच खेला गया टेस्ट मैच, रांची में 16 से 20 मार्च 2017 को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गए टेस्ट और श्रीलंका के गाले में 26 से 29 जुलाई 2017 को खेला गए टेस्ट मैच में फिक्सिंग की बात कही गई है.

हालांकि इस डॉक्यूमेंट्री में किसी भारतीय खिलाड़ी का नाम सामने नहीं आया है. लेकिन इसमें भारत के पूर्व क्रिकेटर रॉबिन मॉरिस और पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर हसन रजा, दुबई के बिजनेसमैन गौरव राजकुमार और कई अन्य लोगों को मोस्ट वॉन्टेड दाऊद इब्राहिम से डॉक्टरेट पिच तैयार करने की बात करते हुए दिखाया गया है. हालांकि मॉरिस ने अल जजीरा की डॉक्यूमेंट्री में नाम आने के बाद मैच फिक्सिंग में शामिल होने के आरोपों से इनकार किया है. अल जजीरा की डॉक्यूमेंट्री के जारी होने के बाद बीसीसीआई ने इसकी जांच शुरू कर दी है. बीसीसीआई का कहना है कि बोर्ड की भ्रष्टाचार विरोधी इकाई अल जजीरा के दावोंकी बारीकी से जांच कर रही है.

अल जरीरा ने दावा किया है कि गाले क्रिकेट स्टेडियम की पिच क्यूरेटर थरंगा इंडिका फिक्सर के पक्ष में पिच तैयार करने की बात कर रहे हैं. गाले में ऑस्ट्रेलियाई टीम तीन दिनों के अंदर टेस्ट मैच हार गई थी. वहीं भारतीय टीम ने जुलाई 2017 में रांची में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में 600 से ज्यादा का स्कोर खड़ा कर दिया था. इन दोनों मैचों में पिच क्यूरेटर थरंगा इंडिका थीं.

अल जजीरा की डॉक्यूमेंट्री एक व्यक्ति को भी एनील मुनावर के रूप में दिखाया गया है. जो कथित रूप से दाऊद से जुड़ा हुआ है. मुनावर की ब्रिटिस व्यवसायी हैरिसन से बाचतीत करते हुए दिखाया गया है, जिसमें किस तरह से मैच फिक्स किया जाता है. मुनावर हैरिसन को बताता है कि मैचों के दौरान खिलाड़ियों और फिक्सर्स के बीच में सिग्नल का किस तरह से आदान प्रदान किया जाता है. हर बार एक अलग संकेत दिया जाता है.

मैच से पहले खिलाड़ियों के साथ 60 से 70 फीसदी तक मैच फिक्स किया जाता है. इसकी एक स्क्रिप्ट तैयार की जाती है. जब मुनावर से यह पूछा गया कि क्या उनके पास हर राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ी है. जो मैच फिक्स करते हैं. इस पर मॉरिस ने हैरिसन को समझाया कि उसके कॉन्टेक्ट में 30 खिलाड़ी हैं. जो उनकी योजना के अनुसार खेंलेग.

वीडियो में राजकुमार दुबई क्रिकेट काउंसिल के तहत 10 दिवसीय T20 अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट शुरू करने की बात कर रहा है. वह कह रहा है कि इस टूर्नामेंट में सभी विदेशी खिलाड़ी हमारे लिए खेलेंगे. इसमें गाले ग्राउंड स्टाफ हमारी मदद करेगा. गाले में डॉक्टरेट पिच बनवाने के लिए ग्राउंड स्टॉफ को 25 लाख रुपये देने होंगे. हालांकि इस अल जजीरा के इस वीडियो को इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने खारिज कर दिया है. उनका कहना है कि ये फिक्सिंग के प्रमाण के लिए काफी नहीं है.

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि अगर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का मैच फिक्सिंग में किसी भी तरह का विश्वसनीय प्रमाण मिलता है. तो उसकी जांच करेंगे. हम क्रिकेट में किसी भी तरह के भ्रष्टाचार से समझौता नहीं करेंगे. अल जजीरा से फिक्सिंग को लेकर किसी अन्य साक्ष्य की मांग करते हैं, जिसके आधार पर हम इसकी जांच कर सकते हैं. वहीं, श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने कहा कि हम इस मामले में आईसीसी के साथ पूरी तरह से समर्थन कर रहे हैं.

वहीं इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने कहा कि ईसीबी और आईसीसी के पास इंग्लैंड के किसी भी खिलाड़ी के मैच फिक्सिंग में शामिल होने का विश्वसनीय सबूत नहीं है. ईसीबी को अल जजीरा की डॉक्यूमेंट्री के बारे में जानकारी है. लेकिन यह मैच फिक्सिंग के आरोपों का साबित करने के लिए काफी नहीं है. आईसीसी ने एक बयान जारी कर कहा है कि क्रिकेट में भ्रष्टाचार से जुड़े सभी सबूत और जानकारी तत्काल हमको दी जाए ताकि इसकी जांच की जा सके.

First published: 28 May 2018, 12:31 IST
 
अगली कहानी