Home » क्रिकेट » Virat Kohli Reveals How He Went Black After Father Death
 

अपने पिता की मौत पर रो भी नहीं पाए थे विराट कोहली, खेल रहे थे मैच बनाए थे, इतने रन

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 September 2019, 20:14 IST

विराट कोहली अभी विश्व के महानतम बल्लेबाजों में से एक है. विराट ने हाल ही में अमेरिकी स्‍पोर्टस रिपोर्टर ग्राहम बेनसिंगर को अपना इंटरव्यू दिया है जिसमें उन्होंने बताया है कि कैसे उनके पिता से जुड़ी एक हादसे ने उनकी पूरी जिंदगी बदल के रख दी. विराट ने अपने इंटरव्यू में कहा कि उन्होंने अपने पिता को अपने सामने आखिरी सांसे लेते देखा और इस घटना ने उनकी जिंदगी पर सबसे ज्यादा असर डाला.

विराट कोहली ने अपने इस इंटरव्यू में आखिर वो अपने पिता के देहांत के दिन क्रिकेट खेलने क्यों गए थे. साथ ही उन्होंने पहली बार इस बात का भी खुलासा किया कि आखिर वो अपने पित के देहांत पर क्यों नहीं रोए थे. बकौल विराट,'उस समय मैं 4 दिनों का मैच खेल रहा था और जब यह सब हुआ तो अगले दिन बल्‍लेबाजी जारी रखनी थी. सुबह के ढाई बजे उनका देहांत हुआ. हम सब जागे लेकिन उस समय हमें कुछ नहीं पता था. मैंने उन्‍हें आखिरी सांस लेते हुए देखा. हम आसपास के डॉक्‍टरों के यहां गए लेकिन किसी ने दरवाजा नहीं खोला. फिर हम उन्‍हें अस्‍पताल लेकर गए लेकिन दुर्भाग्‍य से डॉक्‍टर उन्‍हें बचा नहीं पाए. परिवार के सभी लोग टूट गए और रोने लगे लेकिन मेरी आंखों से आंसू नहीं आ रहे थे. मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्‍या हो गया और मैं सन्‍न था.'

 

विराट कोहली ने बताया कि उनके पिता चाहते थे कि वो कभी क्रिकेट खेलना नहीं छोड़ना हैं. उन्होंने बताया कि वो अपने पिता की मृत्य़ु के अगले दिन जब को खेलने गए थे उस दौरान वो ड्रेसिंग रूप में रोने लगे थे. उन्होंने कहा,'मैंने अपने कोच को सुबह फोन किया और जो कुछ भी हुआ उसके बारे में बताया. साथ ही कहा कि मैं आगे खेलना चाहता हूं क्‍योंकि चाहे कुछ हो क्रिकेट छोड़ना मंजूर नहीं था. मैदान पर गए तो मैंने एक दोस्‍त को बताया. उसने बाकी साथियों को खबर दी. जब ड्रेसिंग रूप में मेरे टीम साथी मुझे सांत्‍वना दे रहे थे तो मैं बिखर गया और रोने लगा.'

ग्राहम बेनसिंगर को दिए अपने इंटरव्यू में कोहली ने बताया कि एक हादसे ने उनकी जिंदगी पूरी तरह से बदल कर रख दी थी. उन्होंने कहा,'मैं मैच से आया और अंतिम संस्‍कार किए और मेरे भाई से वादा किया कि मैं इंडिया के लिए खेलूंगा. पिता हमेशा चाहते थे कि मैं इंडिया के लिए खेलूं और इसके बाद जीवन में सब कुछ दूसरे नंबर पर आ गया. क्रिकेट पहली प्राथमिकता बन गई.'

युवराज सिंह ने इस समस्या को लेकर उड़ाया टीम इंडिया का मजाक

First published: 7 September 2019, 20:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी