Home » क्रिकेट » Virender Sehwag reveals Sachin Tendulkar promoted MS Dhoni ahead of Yuvraj singh in the 2011 World Cup Final
 

सहवाग ने किया खुलासा, वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल में युवराज से पहले क्यूं आये थे धोनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2018, 12:14 IST

वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल दो एशियाई टीमों के बीच खेला गया, जिसमें एक तरफ मेदबान टीम इंडिया थी तो वहीं दूसरी टीम श्रीलंका. भारत ने इस ऐतिहासिक मुकाबले में भारत ने श्रीलंका को 6 विकेट से मात देकर दूसरी बार इस खिताब पर कब्जा किया था.

टीम इंडिया ने गौतम गंभीर और एमएस धोनी की शानदार पारियों की बदौलत श्रीलंका को मात देकर चमचमाती ट्रॉफी अपने नाम की थी. इसी वर्ल्ड कप की जीत से जुड़े कई बड़े खुलासे उस समय टीम के साथ मौजूद और वर्ल्ड कप फाइनल खेलने वाले दिग्गज सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने एक टॉक शो में किए.

इस टॉक शो में सहवाग ने बताया कि क्रिकेट के 'भगवान' सचिन तेंदुलकर ने उन्हें वर्ल्ड कप का मैच नहीं देखने दिया था. इसके अलावा वीरेंद्र सहवाग ने ये भी खुलासा किया कि क्यों कप्तान एमएस धोनी फॉर्म में चल रहे युवराज सिंह से पहले बल्लेबाजी करने उतरने. सहवाग ने इस राज से भी पर्दा उठा दिया है.

ये भी पढ़ेंः सचिन-सहवाग ने खोले ड्रेसिंग रूम के राज, बताया-कैसे गांगुली को हटाकर बनाई थी ओपनिंग जोड़ी

सहवाग ने बताया एमएस धोनी को पहले बल्लेबाजी पर उतरने के लिए मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने कहा था. इस दौरान सहवाग ने बताया, "जब हम दोनों ड्रेंसिंग रूम में बैठे हुए थे तभी धोनी बाथरूम के लिए ड्रेसिंग रूम में आए. तब सचिन पाजी ने धोनी से कहा था कि अगर राइट हैंड बैट्समैन आउट हो तो तुम जाना और अगर लेफ्ट हैंड हो तो युवराज सिंह को भेजना. धोनी ने सचिन की सलाह को माना और अमल किया."

 

आपको बता दें, पहली गेंद पर सहवाग और फिर कुछ ओवर्स के बाद सचिन तेंदुलकर के आउट होने के बाद उस समय गौतम गंभीर और विराट कोहली मैदान पर थे. इसके बाद जल्द ही विराट कोहली दिलशान के हाथों आउट हो गए. इसके बाद ड्रेंसिंग रूम से एमएस धोनी बल्ला थामे निकले और मैदान पर आ गए.

ये भी पढ़ेंः राहुल-चहल ने दाढ़ी का मजाक बनाया तो विराट ने कर दी दोनों की बोलती बंद

इसके बाद का जो इतिहास है वो इस तरह है कि धोनी ने संभलकर खेलते हुए गंभीर के साथ एक लंबी साझेदारी की बाद में युवराज के साथ मिलकर भारत को जीत दिलाई. ये मैच सचिन तेंदुलकर के लिए यादगार हो गया क्योंकि उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में पहली बार वर्ल्ड कप जीता था.

First published: 10 June 2018, 12:14 IST
 
अगली कहानी