Home » क्रिकेट » will ms dhoni feature in 2019 world cup
 

संन्यास! धोनी खुद करेंगे अपने भविष्य का फैसला या BCCI लेगा ये कड़ा निर्णय

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 October 2018, 8:48 IST

एमएस धोनी अब खराब फॉर्म के चलते सेलेक्टर्स की रडार पर आ गए हैं. उन्हें वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली जाने वाली T-20 सिरीज  से बाहर कर दिया गया है. सेलेक्टर्स ने साफ कर दिया है कि वे अब क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में युवा खिलाड़ियों को मौका देना चाहते हैं. 2007 में जब टीम इंडिया वर्ल्ड T-20 खेलने गई थी तब सीनियर खिलाड़ियों ने खुद ही T-20 टीम में न खेलने का फैसला किया था लेकिन यहां चीजें थोड़ी अलग हो रही हैं. धोनी की खराब फॉर्म उन पर भारी पड़ रही है.

आईपीएल 2018 में धोनी ने रनों का अंबार जरूर लगाया था लेकिन उसके बाद से ही वह लगातार फेल हो रहे हैं जिसके चलते उनकी पर्मानेंट वनडे की सीट पर भी सवाल खड़े हो गए हैं. धोनी का प्रदर्शन अगर ऐसा ही रहा तो हो सकता है कि उन्हें 2019 वर्ल्ड कप खेलने का भी मौका न मिले.

सेलेक्टर्स ने टी20 टीम से धोनी की छुट्टी करके यह साफ कर दिया है कि अब वे अपना प्रदर्शन जल्दी ही सुधार लें वरना वनडे टीम से भी उन्हें बाहर किया जा सकता है. अगर ऐसा हुआ तो 2019 वर्ल्ड कप में उनके खेलने के मौकों को तगड़ा झटका लगेगा.

धोनी ने आखिरी 18 वनडे मैचों की 12 पारियों में 25.20 की औसत से रन बनाए हैं और इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 68.10 का रहा है. साथ ही इस दौरान वह एक भी अर्धशतक नहीं लगा पाए हैं और स्ट्राइक रेट 68.10 का रहा है. इसके पहले उनका किसी भी कैलेंडर ईयर में स्ट्राइक रेट 75 से नीचे नहीं रहा है.

वैसे धोनी 2019 वर्ल्ड कप खेलेंगे कि नहीं वह आगामी ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के दौरे के बाद साफ हो जाएगा. अगर धोनी इन दोनों सीरीजों में भी अच्छा प्रदर्शन करने में नाकामयाब रहते हैं तो उनका टीम से बाहर जाना लगभग तय हो जाएगा. जाहिर है कि वर्ल्ड कप का सपना संजाए बैठी टीम इंडिया प्लेइंग इलेवन में दो विकेटकीपर्स रखने की स्थिति में नहीं है.


वैसे धोनी के टीम में रहने से एक बड़ा फायदा यह जरूर है कि वह ऑन फील्ड फैसले में लेने में कोहली की बड़े शानदार अंदाज में मदद करते हैं. रिव्यू लेने में उनका कोई सानी नहीं है और विकेटों के पीछे स्टंपिंग की रफ्तार अभी भी काबिले तारीफ है. जाहिर है कि यही एक वजह कि सेलेक्टर धोनी को खराब प्रदर्शन के बावजूद लगातार मौके दे रहे हैं. लेकिन अब ये हाई टाइम है, उन्हें बैट से अपनी उपयोगिता साबित करनी ही होगी.

First published: 29 October 2018, 8:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी