Home » क्रिकेट » World Cup 2019, INDvENG: India vs England match, Team loses match by MS Dhoni and Kedhar Jadhav
 

World Cup 2019: धोनी-जाधव ने जानबूझकर हरवाया मैच ! दिग्गजों ने लगाए बड़े आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 July 2019, 14:10 IST

World Cup 2019 में भारतीय टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला मैच गंवा दिया. बर्मिंघम में खेले गए इस मुकाबले को टीम इंडिया 31 रनों से हार गई. हालांकि इस मुकाबले के बाद टीम इंडिया के बल्लेबाजों महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. आम लोग ही नहीं बल्कि क्रिकेट के दिग्गज भी धोनी और जाधव पर सवाल उठा रहे हैं.

दरअसल, जब इग्लैंड के 337 रनोंं का टीम इंडिया पीछा कर रही थी और जब रन गति बढ़ाने की दरकार थी, तो ये दोनों आराम से खेल रहे थे. यहां तक कि इन दोनों बल्लेबाजों ने मैच जिताने की कोशिश भी नहीं की.

जब हार्दिक पांड्या के आउट होने के बाद 45वें ओवर में धोनी का साथ निभाने केदार जाधव मैदान पर आए तो उस समय भारत को 31 गेंदों में जीत के लिए 71 रन चाहिए थे. इसके बाद ये दोनों आखिरी तक नाबाद रहे लेकिन पूरी पारी के दौरान ऐसा कभी नहीं लगा कि ये दोनों जीत के लिए खेल रहे हों. जाधव का खेल देखकर तो ऐसा लग रहा था कि वह जीतने के लिए खेलने ही नहीं आए.

 

महेंद्र सिंह धोनी ने इस दौरान नाबाद 42 की पारी 31 गेंदों में खेली. इसमें उन्होंने मात्र 4 चौके और एक छक्का लगाया. वहीं दूसरी तरफ केदार जाधव ने इस दौरान 13 गेंदों पर नाबाद 12 रनों की पारी खेली और एकमात्र चौका लगाया. जब टीम इंडिया को जीत के लिए तेज रन बनाने की दरकार थी तो ये दोनों सिंगल रोटेट करने में लगे हुए थे.

भारत को जब तेज रन गति की दरकार थी तो ये दोनों बल्लेबाजों ने 31 गेंदों में 39 रनों की साझेदारी की. शर्मनाक बात तो यह है कि इसमें भी इन्होंने 7 डॉट गेंदेें खेली और 20 सिंगल लिए. इस साझेदारी में इन दोनों ने मात्र 3 चौके और एक छक्का लगाया. 

 

धोनी-जाधव की इस पारी के बाद क्रिकेट के दिग्गजों ने इनपर सवाल खड़े कर दिए हैं. टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने धोनी-जाधव पर बड़ा निशाना साधा है. गांगुली ने कहा, "5 विकेट शेष होने के बाद भी आप जीत की कोशिश नहीं करते !! ये सब माइंड सेट बताता है." वहीं आकाश चोपड़ा ने कहा, "ऐसा लग रहा था कि दोनों जीतना ही नहीं चाहते. उन्होंने एक बार भी कोशिश नहीं की."

इससे पहले क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर भी धोनी की बल्लेबाजी पर सवाल खड़े किए थे. अफगानिस्तान के खिलाफ मैच के बाद तेंदुलकर ने कहा था कि धोनी को अपने अप्रोच को बदलना चाहिए. टीम इंडिया अगर सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबलों में धोनी की ऐसी कमजोरी झेलता रहा तो इस कारण बड़ा स्कोर नहीं बना पाएगा. जिससे टीम को बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है.

वनडे क्रिकेट में आया था तूफान, 50 ओवर में 596 रन बना इस टीम ने कर दिया था हैरान, 571 रन से जीता था मैच

अटल बिहारी वाजपेयी पाकिस्तान पर 18 साल पहले बालाकोट जैसी एयर स्ट्राइक करना चाहते थे, लेकिन..

First published: 1 July 2019, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी