Home » क्रिकेट » Yuvraj Singh awarded with honorary doctorate degree by ITM University with Nihalani, Rajat Sharma, Ashok Vajpayee
 

सिक्सर किंग युवराज को मिली डॉक्टरेट की मानद उपाधि

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 November 2017, 16:55 IST

सिक्सर किंग के नाम से मशहूर टीम इंडिया के दिग्गज क्रिकेटर युवराज सिंह को कई हस्तियों के साथ डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया है. युवराज को इस उपाधि देने के पीछे की प्रमुख वजह कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से लड़कर क्रिकेट में अपना फिर से दमखम दिखाना है.

ग्वालियर स्थित आईटीएम विश्वविद्यालय द्वारा भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज खिलाड़ी युवराज सिंह को 'डॉक्टरेट इन फिलोसिफी ऑनारिस कॉसा (पीएचडी एचसी)' की उपाधि से नवाजा गया है.

युवराज के साथ-साथ डॉ. एएस कुमार, फिल्म जगत से गोविंद निहलानी, कवि डॉ. अशोक वाजपेयी, मीडिया जगत से रजत शर्मा, विज्ञान एवं प्रोद्यौगिकी के लिए डॉ. आरए माशलेकर और सामाजिक कार्यों के लिए अरुणा रॉय को भी इस उपाधि से नवाजा गया.

इस सम्मान को प्राप्त कर युवराज ने कहा, "मैं इस उपाधि से नवाजे जाने पर काफी सम्मानित महसूस कर रहा हूं. इस क्रम में इस उपाधि के साथ मुझ पर एक अतिरिक्त जिम्मेदारी आ गई है."

युवराज ने अपने करियर में एक खिलाड़ी के तौर पर 400 मैच खेले हैं और उनमें 10,000 से अधिक रन बनाए हैं. चंडीगढ़ निवासी युवराज ने 2007 में भारतीय टीम की टी-20 विश्व कप में खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाई. इसके अलावा, 2011 विश्व कप में खिताबी जीत पर टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार मिला.

क्रिकेट जगत से हटकर युवराज ने सामाजिक कार्यो में अपनी हिस्सेदारी दी है. कैंसर की बीमारी से जूझने और इससे बाहर निकलने के बाद 2012 में बॉम्बे ट्रस्ट अधिनियम 1950 के तहत उन्होंने 'यू वी कैन' संस्था की शुरुआत की थी.

इस संस्था का लक्ष्य कैंसर से पीड़ित लोगों की मदद करना और उन्हें इस बीमारी से लड़ने के लिए प्रेरित करना है. इसके साथ ही यह संस्था कैंसर पीड़ितों की वित्तीय सहायता के लिए धन भी जुटाती है.

 (आईएएनएस इनपुट के साथ)

First published: 30 November 2017, 16:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी