Home » क्राइम न्यूज़ » Burari Death Mystry: Lalit brother tried to save his life but failed on Delhi mass death
 

बुराड़ी कांड: ललित के 'मौत के प्लान' में फंस गया था बड़ा भाई, फंदा छुड़ाकर बचना चाहता था

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2018, 9:32 IST

दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत की खबर ने पूरे देश झकझोर कर रख दिया. इस मामले में रोज नित नए खुलासे हो रहे हैं. अब इस मामले में एक नई बात सामने आ रही है. मामल में बड़ा खुलासा हुआ है कि घटना का मास्टरमाइंड माने जा रहे ललित की योजना से उसका भाई सहमत नहीं था. हालांकि, परिवार के कहने पर वो फंदे से लटक गया था.

खुलासा हुआ है कि वो जीना चाहता था. जब सारे लोग फंदे पर लटक गए थे तो ललित के बड़े भाई भुवनेश ने लटकने के बाद खुद को बचाने की कोशिश की थी. वह फंदे से निकलना चाहता था. फंदा लगाकर लटकने के बाद उसने बचने के लिए खूब हाथ-पैर चलाए थे. उसने फंदा खोलने की कोशिश भी की, लेकिन जिंदा बचने की उसकी सारी कोशिश नाकाम रही.

क्राइम ब्रांच ने मौके से मिले तमाम सबूतों और साक्ष्यों का अध्ययन करने के बाद कहा कि परिवार के बड़े बेटे भुवनेश उर्फ भुपी ने बचने के लिए फंदा खोलने की कोशिश की थी. दरअसल, तस्वीरों और वीडियो में देखकर पुलिस ने कहा कि तीन सदस्य ऐसे थे जिनके हाथ नहीं बंधे थे और यहीं से पुलिस को सबसे बड़ा सुराग मिला. तस्वीरों को गौर से देखने पर पता चलता है कि भुवनेश फंदे से लटका हुआ तो जरूर है, लेकिन उसका एक हाथ ऊपर की ओर उठा हुआ है.

बता दें कि परिवार के 10 सदस्यों के शव फंदे से लटकते मिले थे, जबकि सबसे बुजुर्ग सदस्य 75 वर्षीय नारायणी देवी फर्श पर मृत पड़ी मिली थीं. फंदे से लटके मिले शवों के आंख पर पट्टी बंधी थी, कान में रूई ठुंसी थी और मुंह भी कपड़े से बंधा हुआ था. शवों के हाथ-पैर भी बंधे हुए थे और पूरे शरीर पर टेलीफोन का तार बंधा हुआ था.

पढ़ें- बुराड़ी कांड में सबस बड़ा खुलासा: भाटिया परिवार ने 6 दिन की थी फंदे पर लटकने की प्रैक्टिस

पुलिस और फोरेंसिक साइंस एक्सपर्ट ने कहा कि ऐसा लगता है आखिरी वक्त में भुवनेश ने फंदा हटाने की नाकाम कोशिश की होगी, लेकिन मौत के सामने उसकी हिम्मत सरेंडर कर गई होगी. पुलिस ने भी कहा कि ऐसा लगता है ललित, भुवनेश और टीना ने सभी के हाथ-पैर और मुंह बांधे थे. सभी के शरीर को तार से मजबूती से भी बांधा गया था. लिहाजा फंदे पर लटकने के बाद सभी का सीधा मौत से सामना हुआ. चूंकी भुवनेश का हाथ नहीं बंधा था, इसलिए उसने अपना फंदा हटाने की नाकाम कोशिश की.

First published: 7 July 2018, 9:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी