Home » क्राइम न्यूज़ » Faridabad police nab sharpshooter, claim he had Salman Khan on radar
 

सलमान खान को मारने का था प्लान, फरीदाबाद पुलिस ने पकड़ा शार्पशूटर, लॉक डाउन के कारण नहीं हो पाया कामयाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2020, 22:20 IST

फरीदाबाद पुलिस ने बुधवार को खुलासा करते हुए बताया कि उन्होंने एक ऐसे शार्पशूटर को गिरफ्तार किया है जो अभिनेता सलमान खान की हत्या की साजिश रच रहा था और इसके लिए उसने मुंबई में पास 3 दिन तक रेकी की थी. जिस शार्पशूटर को गिरफ्तार किया गया है उसका नाम राहुल उर्फ सांगा उर्फ बाबा है और वो हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के गैंग का है.

पुलिस के मुताबिक, आरोपी राहुल (27) भिवानी का रहने वाला है और उसे 15 अगस्त को उत्तराखंड से गिरफ्तार किया गया था. उस पर एसजीएम नगर में सरकारी राशन डिपो चलाने वाले प्रवीण की हत्या करने का आरोप है.


राजेश दुग्गल, डीसीपी (मुख्यालय) ने बुधवार को कहा,"पूछताछ के दौरान, यह सामने आया है कि राहुल ने जनवरी में सलमान खान की हत्या के लिए एक बार फिर से मुंबई का दौरा किया था. वह इस उद्देश्य के लिए बांद्रा में अभिनेता के घर गए और दो दिनों के लिए इस क्षेत्र में रहे."

राजेश दुग्गल ने आगे कहा,"उसने कुख्यात बदमाश लारेंस बिश्नोई और गैंग के अन्य सदस्य संपत नेहरा के कहने पर सलमान के घर रेकी की थी. संपत नेहरा ने जून 2018 में सलमान खान की हत्या के लिए ही उनके घर की रेकी की थी, लेकिन उसे गिरफ्तार कर लिया गया." नेहरा को बिश्नोई के इशारे पर खान की हत्या की साजिश रचने के आरोप में हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया था.

लॉरेंस बिश्नोई बिश्नोई समुदाय का सदस्य है, जो काले हिरन का सम्मान करता है. पुलिस के अनुसार, 1998 में सलमान खान ने जोधपुर में दो काले हिरन को मार डाला था, जिसके कारण बिश्नोई ने उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज की थी.

डीसीपी ने कहा,"राहुल ने बिश्नोई के दिशा-निर्देशों का पालन किया और बाद में उसे सभी जानकारियों से अवगत कराया. हालांकि, वे कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण अपनी योजना को अगले चरण में ले जाने में असमर्थ रहे."

डीसीपी राजेश दुग्गल ने कहा,"2016 और 2018 के बीच, वह अस्थायी आधार पर फरीदाबाद के ईएसआईसी अस्पताल में काम कर रहा था. 2018 में, उसे क्राइम ब्रांच बडखल ने एक अवैध हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था. जमानत पर रिहा होने के बाद, वह अगस्त 2019 में बिश्नोई गिरोह में शामिल हो गया."

फरीदाबाद पुलिस ने राहुल को जिस हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया है, आरोप हैं कि वो उसने 24 जून को की थी. अपने कुछ साथियों की मदद से, उसने प्रवीण को गोली मार दी थी, जिस पर उसे शक था कि उसने पुलिस को एक गुप्त सूचना दी थी जिसके कारण 2018 में उसकी गिरफ्तारी हुई थी. पुलिस ने आगे बताया कि राहुल नवंबर 2019 में कार छीनने के दो मामलों में भी शामिल था, और उसी वर्ष, वह दो कैदियों को पुलिस हिरासत से भगाने में भी शामिल था. पुलिस ने कहा कि इस साल जनवरी में राहुल ने राजस्थान में एक हत्या की साजिश रची थी.

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, जम्मू कश्मीर से तत्काल वापस बुलाए जाएंगे 10 हजार जवान

First published: 19 August 2020, 21:30 IST
 
अगली कहानी