Home » क्राइम न्यूज़ » Father sentenced to death in murder case after rape of daughter, sensational disclosure
 

बलात्कार के बाद बेटी की हत्या के मामले में पिता को मौत की सजा, ऐसे हुआ सनसनीखेज खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 January 2020, 12:25 IST

एक विशेष अदालत ने एक 45 वर्षीय व्यक्ति को अपनी 17 वर्षीय मानसिक रूप से विकलांग बेटी की हत्या और बलात्कार के आरोप में मौत की सजा दी है. एक रिपोर्ट के अनुसार POCSO अधिनियम के तहत न्यायाधीश अशोक चौधरी ने कहा कि यह क्राइम मानव समाज के लिए शर्मनाक है. इस मामले में दोषी पर 20,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

सरकारी वकील प्रेमनारायण नामदेव ने कहा कि लड़की को 13 मई 2015 को शहर के नयापुरा थाना क्षेत्र में उसके घर पर मृत पाया गया था. सरकारी वकील ने बताया कि लड़की के पिता शहर के एक गोदाम में एक गार्ड के रूप में काम करते थे और उसने लड़की की हत्या के बाद ने खुद नयापुरा पुलिस स्टेशन में एक रिपोर्ट दर्ज कराई.

 

रिपोर्ट में कहा गया था कि वह शाम को जब घर लौटा तो उसे उसकी बेटी मृत मिली. उसकी शिकायत के आधार पर पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया और एक जांच शुरू की, नामदेव ने कहा जांच के दौरान पता चला कि पीड़िता चार महीने की गर्भवती थी जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गई. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गर्भावस्था का पता चलने के बाद पुलिस ने डीएनए नमूने एकत्र किए, जिसके बाद ये पूरा खुलासा हुआ.

मृत नाबालिग की मां के बयानों ने पुलिस की थ्योरी को पुष्ट कर दिया क्योंकि उसने कहा कि उसका पति लंबे समय से उनकी बेटी का बलात्कार कर रहा था, जिसके परिणामस्वरूप वह गर्भवती हो गई. अपने 36-पृष्ठ के फैसले में POCSO अदालत ने अपराध को सबसे जघन्य और समाज के लिए शर्मनाक करार दिया.

मानसिक रूप से विकलांग बच्ची के साथ बस ड्राइवर, क्लीनर ने की घिनौनी हरकत, गिरफ्तार

 

First published: 22 January 2020, 11:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी