Home » क्राइम न्यूज़ » Lockdown : 50% crimes stopped due to lockdown, what do Delhi Police figures say?
 

लॉकडाउन में घर के बाहर 50 फीसदी तक कम हो गए अपराध, ये हैं दिल्ली पुलिस के आंकडे

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 April 2020, 12:23 IST

भारत ने कोरोना वायरस (coronavirus) के बढ़ते मामलों के बीच लगाए गए लॉकडाउन के बीच कई तरह के सामाजिक बदलाव आये हैं. एक रिपोर्ट आंकड़ों से पता चलता है कि 21 दिनों के लॉकडाउन से भारत में क्राइम रेट में गिरावट आयी है. दिल्ली और कर्नाटक जैसे राज्यों में 50 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई है. इसमें चोरी और ड्रग डीलिंग जैसे अपराध शामिल हैं लेकिन घरेलू हिंसा और साइबर अपराध के मामले इससे बढ़ गए हैं.

गौरतलब है कि लोगों को लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सामानों के अलावा किसी भी चीज के लिए अपने घरों से बाहर आने की अनुमति नहीं है. 14 अप्रैल को समाप्त होने वाले लॉकडाउन में पुलिस द्वारा कड़ी गश्त की जा रही है.


क्या कहते हैं दिल्ली पुलिस के आंकड़े

दिल्ली पुलिस के अनुसार लॉकडाउन के दौरान शहर की अपराध दर में 2019 की तुलना में 50 फीसदी से अधिक की गिरावट आई है. 2019 में महिलाओं के छेड़छाड़ के मामलों की संख्या 144 से गिरकर 72 हो गई है. अपहरण की दर भी 259 से घटकर 150 हो गई है, जबकि 2019 में 48 घातक दुर्घटनाओं की तुलना में 2020 में 19 तक घट गई है. डकैती के मामलों में 109 से 53 तक गिरावट देखी गई है, मोटर वाहनों की चोरी में 2019 में 1,982 से 1,243 तक कमी आयी है.

कहा गया है कि पड़ोसी राज्य हरियाणा और उत्तर प्रदेश से लगी सीमाओं को बंद करने से राष्ट्रीय राजधानी में अपराध दर कम हुई है. 2019 में अपराध के कुल मामले 3,416 से घटकर अब 1,890 हो गए हैं. रिपोर्ट के अनुसार एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा "एनसीआर में पुलिस की उपस्थिति में भारी बढ़ोतरी से भी फायदा हुआ है. अधिकारी ने कहा "ड्रोन कैमरों के कारण पुलिस को मदद मिली है.  लॉक डाउन के दौरान दिल्ली के प्रदूषण में अभूतपूर्व बदलाव देखा गया है.

 बिहार : कोरोना वायरस संदिग्धों की हेल्पलाइन पर दी जानकारी, पीट-पीटकर हत्या

First published: 13 April 2020, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी