Home » क्राइम न्यूज़ » Uttar Pradesh Meerut Saint Lynching
 

भगवा गमच्छा पहनने को लेकर साधु का उड़ाया मजाक, विरोध किया तो पीट-पीटकर कर दी हत्या

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 July 2020, 18:08 IST

Uttar Pradesh Meerut Saint Lynching: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मेरठ (Meerut) से एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है, खबर है कि पहले एक साधु के भगवा गमच्छे को लेकर उन पर धार्मिक टिप्पणी की गई और जब उन्होंने इसका विरोध किया तो उनकी पीट-पीटकर हत्या कर दी गई.

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, घटना मेरठ के भावनपुर की है. भावनपुर के अब्दुलापुर बाजार में एक शिव मंदिर है, मंदिर की दुकान में गांव के ही कांति प्रसाद दुकान चलाते थे. कांति प्रसाद मंदिर कमेटी के उपाध्यक्ष थे और वो ही मंदिर में साफ सफाई से लेकर पूजा-पाठ तक का काम करते थे. बताया जा रहा है कि कांति प्रसाद गले में भगवा गमच्छा डालते थे और पीले वस्त्र पहनते थे.


रिपोर्ट की मानें तो, सोमवार को कांति प्रसाद गंगानगर स्थित बिजलीघर में बिजली का बिल जमा करने गए. वहीं जब वो वापस लौट रहे थे तो रास्ते में ग्लोबल सिटी के पास गांव के ही अनस कुरैशी उर्फ जानलेवा ने कांति प्रसाद के भगवा गमच्छे को लेकर धार्मिक टिप्पणी की और जब उन्होंने इसका विरोध किया तो अनस कुरैशी ने बीच रास्ते में ही उनकी पिटाई कर दी.

गांव पहुंचर कांति प्रसाद ने अनस कुरैशी के घरवालों से इसकी शिकायत की. बताया जा रहा है कि जब कांति प्रसाद अनस कुरैशी के घर पर थे, तभी वो वहां आ गया था. आरोप है कि तब पूरे परिवार ने मिलकर कांति प्रसाद की बुरी तरह से पिटाई कर दी.

वहीं जब कांति प्रसाद के घर वालों को इसकी जानकारी मिली तो वो उनको बाइक पर बिठाकर भावनपुर थाने ले गए. वहीं जब थाने में उनकी तबीयत बिगड़ी तो एंबुलेंस बुलाई गई और उन्हें मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया. इस दौरान कांति प्रसाद की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी अनस के खिलाफ धार्मिक टिप्पणी करने, मारपीट करने, जान से मारने की धमकी देने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है.

बताया जा रहा है कि मंगलवार को ईलाज के दौरान कांति प्रसाद की मौत हो गई. इसके बाद जब इलाके के हिंदू संगठन को इस बाबत जानकारी मिली तो उन्होंने थाने का घेराव किया और जमकर विरोध प्रदर्शन किया. इसकी जानकारी के बाद आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और उन्होंने लोगों को समझाया. बताया जा रहा है कि अनस के खिलाफ मुकदमे में आइपीसी की धारा 302 बढ़ा दी गई है.

खबर की मानें तो, वहीं इस पूरे घटना पर भावनपुर थाने के एसओ संजय कुमार का ने कहा कि अनस कुरैशी को हत्या के आरोप में ही पुलिस ने जेल भेजा है. साथ ही उसके बाकी साथियों की भी तलाश की जा रही है.

भोपाल में बड़े सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, 14-16 साल की लड़कियों का रेप कर ग्राहकों के पास भेजता था 'अब्बू'

First published: 15 July 2020, 15:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी