Home » कल्चर » A powerful photo series on Trump's misogynist comments, a teenager used women bodies as poster to protest
 

इस किशोरी ने बना दिया अपने शरीर को डोनाल्ड ट्रंप के विरोध का कैनवास

प्रियता ब्रजबासी | Updated on: 10 February 2017, 1:37 IST
(आरिया वॉटसन)

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में विजय हासिल करने वाले डोनाल्ड ट्रंप के महिला विरोधी, लैंगिक भेदभाव वाले विचारों का विरोध करने के लिए एक अमेरिकी किशोरी ने अनोखा तरीका चुना. इस किशोरी ने ट्रंप के उन विचारों के विरोध में अपने नग्न शरीर को पोस्टर बनाकर इसपर उनके अतीत में किए गए कमेंट लिखावाकर तस्वीरें खिंचवाईं.

तस्वीरें: परछाइयां ही इनका अंगवस्त्र है

आरिया वॉटसन

ओरेगॉन स्थित क्लैटसॉप कम्यूनिटी कॉलेज में फर्स्ट ईयर की स्टूडेंट आरिया वॉटसन ने #SignedByTrump नाम से अपने फोटोग्राफी क्लास प्रोजेक्ट में शानदार तस्वीरों की श्रंखला बनाई. इन दमदार तस्वीरों के जरिये आरिया ने डोनाल्ड ट्रंप के लैंगिक भेदभाव वाले विचारों को प्रदर्शित किया और इसके लिए महिलाओं के नग्न शरीर का इस्तेमाल किया. 

शादी के बाद महिलाएं क्यों लगाती हैं पति का सरनेम?

आरिया वॉटसन

इस सिरीज की तस्वीरें डोनाल्ड ट्रंप की उन बातों की याद दिलाती हैं जो उन्होंने महिलाओं के संबंध में कहीं थी और वो बर्दाश्त करने लायक नहीं थीं. यह तस्वीरें यह भी साबित करती हैं डोनाल्ड ट्रंप की सत्ता में अमेरिका कैसा होगा.

आरिया के मुताबिक, "मैंने कभी राजनीति की परवाह नहीं की और न ही यह मुझे समझ में आई." लेकिन यह साल बिल्कुल अलग था.  जब एक महिला होने के नाते मैंने देखा कि डोनाल्ड ट्रंप वाकई जीत गए हैं, मेरा दिल टूट गया. 

इट हैपेंस: रेप पीड़ितों की यह तस्वीरें विचलित कर सकती हैं

आरिया वॉटसन

यूट्यूब व्लॉगर आरिया ने अपने एक वीडियो में कहा कि अपनी इस सिरीज के लिए महिलाओं को ढूंढ़ना काफी मुश्किल था. जब उसे इस खोजबीन में निराशा हाथ लगी तो उसने खुद और अपनी तीन बेस्ट फ्रेंड्स को ही इसके लिए चुना. इस सिरीज में दिखने वाली महिलाएं आम महिलाओं की ही तरह नजर आती हैं.

बेटी को लिखा चंदा कोचर का यह पत्र हर मां-बाप का बच्चों के लिए लिखा आदर्श पत्र है

आरिया वॉटसन

आरिया को इस फोटो श्रंखला के लिए काफी विरोध का भी सामना करना पड़ा. कहा गया कि उसकी तस्वीरों में और विविधता भी हो सकती थी. लेकिन आरिया की प्रतिक्रिया काफी असल साबित होती है, "मैं समझ सकती हूं कि ऐसे लोग कहां से आ रहे हैं. मुझे गलत मत समझिए और मुझे अपनी तस्वीरों के लिए कई रंगों की महिलाओं को शामिल करना बेहतर लगता. लेकिन मैं एक ऐसे छोटे कस्बे में रहती हूं और एक बेहद छोटे कॉलेज में जाती हूं जहां ज्यादातर लोगों का रंग सफेद है."

दुनिया की 9 बेमतलब की बेशकीमती चीजें

आरिया वॉटसन

इस सिरीज में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यह भी है कि एक किशोरी होने के बावजूद आरिया वॉटसन इस तरह की तस्वीरों की अहमियत समझती हैं. वो समझती हैं कि ट्रंप को क्यों लैंगिक भेदभाव वाला कहने बहुत जरूरी है और इसके खिलाफ विरोध भी क्यों जरूरी है. वो कहती हैं, "हमारा नेता ऐसा नहीं हो सकता जो महिलाओं के विरोध में इतनी खतरनाक बातें करता है. जिस प्रकार से वो महिलाओं के बारे में बोलते हैं, मुझे डर लगता है."

सेल्फी पर सख्तीः जानिए क्या हैं सेल्फी पर सरकार के दिशानिर्देश

आरिया वॉटसन
First published: 15 December 2016, 3:03 IST
 
प्रियता ब्रजबासी @priyatab

फोटो जर्नलिस्ट, कैच न्यूज

पिछली कहानी
अगली कहानी