Home » कल्चर » begum akhtar birthday special Remembering Begum Akhtar know all about ghazal singer Akhtaribai Faizabadi
 

गज़ल की मल्लिका बेगम अख़्तर: आवाज़ के जादू ने कभी मक्का में सजार्इ थी महफिल

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 October 2017, 12:43 IST

जब लखनऊ के संगीत घराने की बात हो और सुरों की मल्लिका बेगम अख्तर का जिक्र न हो तो बात अधूरी रह जाती है. दादरा, ठुमरी व गजल में अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करने वाली बेगम अख्तर ने अपनी गायकी से एक मिसाल कायम की. मल्लिका-ए-गजल कहलाने वाली बेगम अख्तर की शनिवार को 103वीं जयंती है. जानें उनसे जुड़े दिलचस्प किस्से.

1. एक बार वो एक संगीत सभा में भाग लेने मुंबई गईं. वहीं, अचानक उन्होंने तय किया कि वो हज करने मक्का जाएंगी. उन्होंने बस अपनी फ़ीस ली, टिकट ख़रीदा और वहीं से मक्का के लिए रवाना हो गईं. जब तक वो मदीना पहुंची उनके सारे पैसे ख़त्म हो चुके थे. उन्होंने ज़मीन पर बैठ कर नात (हजरत मोहम्मद की शान में पढ़ा जाने वाला गीत) पढ़ना शुरू कर दिया. लोगों की भीड़ लग गई और लोगों को पता चल गया कि वो कौन हैं. तुरंत स्थानीय रेडियो स्टेशन ने उन्हें आमंत्रित किया और रेडियो के लिए उनके नात को रिकॉर्ड किया.

2. बेगम अख्तर को ‌सिगरेट की लत थी और वह शराब की भी शौकीन थीं. उनकी शिष्या शांत‌ि हीरानंद के मुताबिक उन्हें सिगरेट की इतनी लत थी कि रमजान के दौरान इफ्तार करते वक्त जल्दी-जल्दी नमाज पढ़तीं और एक कप चाय पीने के बाद तुरंत सिगरेट सुलगा लेतीं. जब दो सिगरेट फूंक लेतीं उसके बाद जाकर फिर आराम से बैठकर नमाज पढ़तीं.

3. चेन स्मोकर बेगम अख्तर ने सिगरेट की लत के चलते पाकीजा फिल्म छह बार देखी. वह हॉल में पाकीजा फिल्म देखने गई और इस दौरान उन्हें तलब लगी. हॉल में ‌सिगरेट पीने की अनुमत‌ि नहीं थी इसलिए उन्हें बाहर जाकर सिगरेट पीनी पड़ती. इस दौरान फिल्म का कुछ न कुछ हिस्सा छूट जाता जिसके चलते वह अगले दिन फिल्म का वो हिस्सा देखने आतीं और सिगरेट के चक्कर ‌में दूसरा हिस्सा छूट जाता. इस तरह पाकीजा फिल्म वह छह बार में पूरी देख पाई थीं.

4. बेगम अख्तर को उनक‌ी गायकी के लिए ढेरों पुरस्कार मिले. उनकी याद में यूपी सरकार भी हर साल बेगम अख्तर पुरस्कार देती है जो कि ऐसे गायकों को दिया जाता है, जिसने ठुमरी व गजल गायकी में विशेष योगदान दिया हो.

5. कहा जाता है क‌ि उर्दू के मशहूर शायर ज‌िगर मुरादाबादी बेगम अख्तर के करीबी दोस्त थे. उनके बीच खूब हंसी-मजाक भी होता था, बेगम अख्तर की श‌िष्या शांत‌ि हीरानंद बताती हैं क‌ि बेगम ज‌िगर मुरादाबादी को सबके सामने खूब छेड़ती थीं. एक बार बेगम ने ज‌िगर से कहा, क‌ितना अच्छा हो क‌ि हमारी शादी आपसे हो जाए. हमारे बच्चे तो कमाल के होंगे, मेरी आवाज और आपकी शायरी दोनों का मेल. ज‌िगर मुरादाबादी बेगम अख्तर की बात सुनकर जोर से हंसे और जवाब द‌िया, लेक‌िन उनकी शक्ल अगर मुझ पर गई तो क्या होगा.

First published: 7 October 2017, 12:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी