Home » कल्चर » Buddha Purnima 2020: Know About Philosophy of Lord Buddha Purnima
 

Buddha Purnima 2020: जानिए क्या है भगवान बुद्ध का मध्यम मार्गी दर्शन और क्या हैं उनके अष्ठ सूत्रीय मार्ग

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2020, 15:39 IST
Buddha Purnima 2020

Buddha Purnima 2020: वैशाख मास की पूर्णिमा को हर साल बुद्ध पूर्णिमा का त्योहार मनाया जाता है और इस साल पूरे देश में सात मई को यह त्योहार मनाया जाएगा. बुद्ध पूर्णिमा के दिन लोग सुबह-सुबह उठकर दान पुण्य करते हैं. कहा जाता है कि 563 ईसा पूर्व नेपाल के लुम्बिनी नगर में वैशाख मास की पूर्णिमा को भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था, इसी दिन उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई और इसी दिन उनका महानिर्वाण भी हुआ था. ऐसे में बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए बुद्ध पूर्णिमा काफी महत्वपूर्ण है.

भगवान बुद्ध के बारे में कहा जाता है कि उनका दर्शन बेहद ही सरल और उच्च कोटि का है, जिसे मध्यम मार्ग के नाम से जाना जाता है. भगवान बुद्ध के बताए दर्शन के आधार पर जीवन पद्धति भी है. इसे हम बोद्ध धर्मे के नाम से जानते हैं. भगवान बुद्ध के मूल सिद्धांतों में चार प्रमुख बातें हैं, दुख का सत्य, दुख की उत्पत्ति का सच, दुख की समाप्ती का सत्य, दुख की समाप्ति के मार्ग का सत्य.


बौद्ध धर्म के अनुयायियों का मानना है कि भगवान बुद्ध मानते हैं कि इंसान का जीवन दुखों का भंडार होता है और जीवन के प्रत्येक भाग नें दुख होता है. भगवान बुद्ध का मनाना है कि इंसान के दुख का असली कारण व्यक्ति की इच्छा है. व्यक्ति की इच्छा उसको भौतिक जीवन से बांधे रखती है. भगवान बुद्ध का मानना था कि अदर कोई इंसान अपनी इच्छा को मार लेता है तो उसे मोक्ष का प्राप्ती होती है.

भगवान बुद्ध ने इसके साथ ही अष्ठ सूत्रीय मार्ग भी बताया है जो इस प्रकार है.

- दयालुता, पूर्ण, सत्यवादी और उचित संभाषण
- निष्कपट, शांतिपूर्ण और उचित कर्म
- उचित आजीविका की खोज, जिससे किसी को हानि न हो
- उचित प्रयास और आत्म-नियंत्रण
- उचित मानसिक चेतना
- उचित ध्यान और जीवन के अर्थ पर ध्यान केन्द्रित करना
- निष्ठावान और बुद्धिमान व्यक्ति का मूल्य उसके उचित विचारों से है
- अंधविश्वास से बचना चाहिए और सही समझ विकसित करना चाहिए

बौद्ध धर्म के अनुयायियों की मानें तो भगवान बुद्ध ने जो अष्ठ सूत्रीय मार्ग बताया है उससे व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति कर सकता है. कहा जाता है कि भगवान बुद्ध वेदों की प्रमाणिकता को नकारते हैं.

बुद्ध पूर्णिमा 2020 : वो घटनाएं जिन्होंने सिद्धार्थ को राजपाट छोड़ने पर कर दिया मजबूर 

First published: 5 May 2020, 15:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी