Home » कल्चर » Chaitra Navratri 2019: Peoples visit Netula Temple Jamui in Bihar for son muslims also visited
 

इस मंदिर में मुस्लिम संप्रदाय के लोग भी लगाते हैं हाजिरी, पुत्र प्राप्ति के लिए इस मंदिर में लगता है भक्तों का तांता

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 April 2019, 9:10 IST
Chaitra Navratri 2019

चैत्र नवरात्र की शुरूआत 6 अप्रैल से होने जा रही हैं और इन दिनों में मां दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा की जाती है. मां दुर्गा के व्रत अगर आप पूरे मन से रखें तो आपकी हर मनोकामनाएं पूरी होती है. नवरात्र के खास दिनों में हर मंदिर में भक्तों का तांता लगा रहता है और लाखों श्रद्धालु मां से दुआ मांगने आते हैं. इसके साथ ही कुछ भक्त उन मंदिरों के दर्शन के लिए जाते हैं जहां पर मान्यता प्राप्त होती है और ऐसे ही एक मंदिर के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जहां पर पुत्र प्राप्ति के लिए लोग जाते हैं. ये मंदिर पुत्र प्राप्ति के लिए इतना मशहूर है कि यहां पर मुस्लिम संप्रदाय के लोग भी दर्शन के लिए जाते हैं. 

Netula Temple Jamui

बिहार के जमुई जिले के सिकंदरा प्रखंड के कुमार गांव में मौजूद मां नेतुला मंदिर स्थानीय लोगों के साथ ही दूर दराज लोगों के लिए भी मान्यताओं को लेकर मशहूर हैं. इस मंदिर में हर मंगलवार और शनिवार को एक खास तरीके की पूजा का इंतजाम किया जाता है और लोग यहां पर पुत्र प्राप्ति के लिए मान्यता मांगते हैं. इसके साथ ही ऐसा भा कहा जाता है कि अगर 30 दिनों तक लगातार इस मंदिर में सच्चे भक्ति भाव के साथ पूजा करें तो फल की प्राप्ति होती है.

Netula Temple Jamui

वहां के स्थानीय लोगों का मानना है कि इस मंदिर ने गंगा-जमुनी तहजीब को बांधे रखा है और इस मंदिर में सिर्फ हिंदू ही नहीं बल्कि मुस्लिम संप्रदाय के लोग भी हाजिरी लगाने के लिए आते हैं. फूलों से मां का दरबार सजाया जाता है और मां का सुबह-शाम श्रृंगार किया जाता है. लोगों का ये भी कहना है कि भगवान विष्णु ने जब मां सती के शरीर को खंडित किया था तो उनका पीठ यहीं गिरा था और इस मंंदिर में मां के पीठ की पूजा की जाती है. बता दें कि जमुई रेलवे स्टेशन व लखीसराय से मां नेतुला के मंदिर जाने की दूरी सिर्फ 30 किमी है. वहीं नालंदा से मंदिर की दूरी 60 किमी है और वहां से मंदिर जाने के लिए बसें उपलब्ध रहती हैं. 

पैसे आने में सबसे बड़ी रुकावट हैं ये चार चीजें, अगर आपके घर में भी है तो तुरंत करें बाहर

First published: 5 April 2019, 9:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी