Home » कल्चर » chhath-puja-2020-know-the-history-and-importance of festival
 

Chhath Puja 2020: ये है छठ के त्यौहार की पौराणिक कथा, जानिए पूजा का महत्व

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 November 2020, 19:54 IST

इस साल छठ पूजा की शुरुआत 20 नवंबर को की जाएगी. यह चार दिवसीय पर्व संतान की खुशहाली और अच्छे जीवन की कामना से किया जाता है. सूर्योपासना का यह अनुपम पर्व है. इस व्रत महिलाओं के साथ पुरुष भी समान रूप से करते हैं. ये व्रत अत्यंत ही कठिन होता है क्योंकि इस व्रत में पूरे 36 घंटे तक व्रती बिना कुछ खाए पीए रहता है. चलिए बताते हैं आपको इसके इतिहास और पौराणिक कथा के बारे में.

माना जाता है कि छठ का पर्व वैदिक काल से चला आ रहा है. इस व्रत में में मुख्य रूप से ऋषियों द्वारा लिखी गई ऋग्वेद सूर्य पूजन, उषा पूजन किया जाता है. इस पर्व में वैदिक आर्य संस्कृति की झलक देखने को मिलती है. छठ पूजा का बहुत महत्व माना जाता है. इस पर्व को भगवान सूर्य, उषा, प्रकृति, जल, वायु आदि को समर्पित किया जाता है.


यह पर्व बिहार के साथ पूरे देश के कई हिस्सों में धूमधाम के साथ मनाया जाता है. दूसरे देशों में बसने वाले प्रवासी भारतीयों के कारण अब ये पर्व विदेशों में भी मनाया जाने लगा है. ये पर्व बिहार की संस्कृति बन रहा है. इस पर्व के संबंध में कई कथाएं प्रचलित हैं. चलिए बताते हैं आपको इसकी पौराणिक कथा.

 

पौराणिक कथा के मुताबिक प्रियंवद नाम के राजा की कोई संतान नहीं थीं. तब उन्होंने संतान प्राप्ति के लिए यज्ञ करवाया. महर्षि कश्यप ने पुत्र की प्राप्ति के लिए यज्ञ करने के पश्चात प्रियंवद की पत्नी मालिनी को आहुति के लिए बनाई गई खीर प्रसाद के रूप में दी. जिससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई, परंतु दुर्भाग्यवश वह पुत्र मरा हुआ पैदा हुआ. तब राजा प्रियंवद का ह्मदय अत्यंत द्रवित हो उठा. वो अपने पुत्र को लेकर श्मशान गे और पुत्र वियोग में प्राण त्यागने लगे.

उसी वक्त ब्रह्मा की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने राजा से कहा कि वो उनकी पूजा करें. ये देवी सृष्टि की मूल प्रवृत्ति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं, इसी कारण ये षष्ठी या छठी मइया कहलाती हैं. राजा ने माता के कहे मुताबिक पुत्र इच्छा की कामना से देवी षष्ठी या छठी मइया कहलाती हैं. राजा ने माता के कहे मुताबिक पुत्र इच्छा की कामना से देवी षष्ठी का व्रत किया, जिससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई. कहते हैं कि इसलिए संतान प्राप्ति और संतान के सुखी जीवन के लिए छठ की पूजा की जाती है.

Chhath Puja 2020: इस दिन मनाई जाएगी छठ पूजा, ये है पूजन का शुभ मुहूर्त

First published: 17 November 2020, 19:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी