Home » कल्चर » chhath-puja-2020 scientific-reason-behind-surya-arghya
 

Chhath Puja 2020: आज शुरू हो गया छठ का त्यौहार, ये है अर्घ्य देने का महत्व

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 November 2020, 18:25 IST

छठ का त्यौहार आज से शुरू हो गया है. कार्तिक मास की षष्ठी को छठ मनाई जाती है. छठे दिन पूजी जाने वाली षष्ठी मइया को बिहार में आसान भाषा में छठी मइया कहकर पुकारते हैं.मान्यता है कि छठ पूजा के दौरान पूजी जाने वाली ये माता सूर्य भगवान की बहन है. इसलिए लोग सूर्य को अर्घ्य देकर छठ मैया को प्रसन्न करते हैं.

वहीं पुराणों में मां दुर्गा के छठे रूप कात्यायनी देवी को भी छठ माता का ही रूप माना जाता है. छठ मइया को संतान देने वाली माता के नाम से सभी जाना जाता है. मान्यता है कि जिन छठ पर्व संतान के लिए मनाया जाता है.खासकर वो जोड़े जिन्हें संतान का प्राप्ति नहीं हुई. वो छठ का व्रत रखते हैं, बाकि सभी अपने बच्चों की सुख-शांति के लिए छठ मनाते हैं.


 अगर पहली बार रख रही हैं छठ पूजा का व्रत, तो ऐसे कर लें तैयारी

अर्घ्य देने का वैज्ञानिक महत्व-
यह बात सभी को मालूम है कि सूरज की किरणों से शरीर को विटामिन डी मिलती है और उगते सूर्य की किरणों के फायदेमंद और कुछ भी नहीं. इसलिए सदियों से सूर्य नमस्कार को बहुत लाभकारी बताया गया.

वहीं, प्रिज्म के सिद्धांत के मुताबिक सुबह की सूरत की रोशनी से मिलने वाले विटामिन डी से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है और स्किन से जुड़ी परेशानियां खत्म हो जाती है.

भूलकर भी नहीं लगाने चाहिए घर में ये पौधे, घर में आती है मुसीबत!

First published: 18 November 2020, 18:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी